Published on 2017-11-06

हरिद्वार, ३१ अक्टूबर।

गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि गीता का सबसे बड़ा संदेश त्याग है। गीता वासना, अहंकार व आसक्तियों का त्याग करना सिखाती है। गीता उपनिषदों का सार है।

वे शांतिकुंज के रामकृष्ण हॉल में आयोजित अंतेःवासी कार्यकर्त्ताओं की एक विशेष गोष्ठी को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि महाभारत युद्ध के दौरान अर्जुन के मन में उपजी आसक्तियों के त्याग की सीख के साथ उन्हें कर्त्तव्य परायणता का जो पाठ पढ़ाया, उसी तरह आज भी पूर्वाग्रहों व आसक्तियों को त्याग कर समाज हित में कर्त्तव्य परायणता को अपनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि कभी भी मन असमंजस में आ जाये, तो गीता का स्वाध्याय कर उससे उबरा जा सकता है। गीता में सभी तरह की समस्याओं के समाधान हैं। आज आवश्यकता है कि गीता का समुचित अध्ययन के साथ उसके मर्म को समझा जाए।

उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने जिस तरह द्वापर युग में अर्जुन सहित पाण्डवों को प्रेरित किया है, उसी तरह पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी ने करोड़ों लोगों के जीवन में सकरात्मक बदलाव के लिए प्रेरित करते रहे। इस अवसर पर श्री शिवप्रसाद मिश्र, श्री केसरी कपिल, श्री कालीचरण शर्मा, डॉ. ओपी शर्मा सहित शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता व अंतेःवासी भाई- बहिन उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....