Published on 2017-11-06

हरिद्वार, ३१ अक्टूबर।

गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि गीता का सबसे बड़ा संदेश त्याग है। गीता वासना, अहंकार व आसक्तियों का त्याग करना सिखाती है। गीता उपनिषदों का सार है।

वे शांतिकुंज के रामकृष्ण हॉल में आयोजित अंतेःवासी कार्यकर्त्ताओं की एक विशेष गोष्ठी को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि महाभारत युद्ध के दौरान अर्जुन के मन में उपजी आसक्तियों के त्याग की सीख के साथ उन्हें कर्त्तव्य परायणता का जो पाठ पढ़ाया, उसी तरह आज भी पूर्वाग्रहों व आसक्तियों को त्याग कर समाज हित में कर्त्तव्य परायणता को अपनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि कभी भी मन असमंजस में आ जाये, तो गीता का स्वाध्याय कर उससे उबरा जा सकता है। गीता में सभी तरह की समस्याओं के समाधान हैं। आज आवश्यकता है कि गीता का समुचित अध्ययन के साथ उसके मर्म को समझा जाए।

उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने जिस तरह द्वापर युग में अर्जुन सहित पाण्डवों को प्रेरित किया है, उसी तरह पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी ने करोड़ों लोगों के जीवन में सकरात्मक बदलाव के लिए प्रेरित करते रहे। इस अवसर पर श्री शिवप्रसाद मिश्र, श्री केसरी कपिल, श्री कालीचरण शर्मा, डॉ. ओपी शर्मा सहित शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता व अंतेःवासी भाई- बहिन उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

शांतिकुंज पहुंचे तेलंगाना के श्रममंत्री श्री मल्लारेड्डी

हरिद्वार 14 जुलाई।तेलंगाना राज्य के श्रम, रोजगार, कारखानों, महिलाओं, बाल कल्याण और कौशल विकास मंत्री श्री चामकुरा मल्ला रेड्डी अपने दो दिनी प्रवास में गायत्री तीर्थ शांतिकुंज पहुँचे। यहाँ वे अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुखद्वय डॉ. प्रणव पण्ड्या व शैलदीदी.....

img

Telengana minister visit to Shantikunj

Honourable minister for labour, employment, factories, women, children welfare and skill development Sh. Chamakura Malla Reddy of Government of Telengana visited Shanti Kunj- Haridwar today dated: 13-07-2019 along with MLA Narsapur, Medak district Sh. Ch. Madan Reddy,.....

img

शांतिकुंज में पाँच दिवसीय कन्या कौशल शिविर का समापन

हरिद्वार १४ जुलाई।शांतिकुंज में दिल्ली सहित राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र व उप्र के विभिन्न जिलों से आई बहिनों का कन्या कौशल प्रशिक्षक प्रशिक्षण का आज समापन हो गया। इस शिविर में कुल २४ सत्र हुए। जिसमें शांतिकुंज के विषय विशेषज्ञ बहिनों.....