Published on 2017-11-06
img

राष्ट्रीय प्रतियोगिता हेतु विद्यापीठ के तीन कुश्ती खिलाड़ी का चयन

हरिद्वार, ०१ नवम्बर।
गायत्री विद्यापीठ शांतिकुंज में आयोजित हुई ८३ वीं राज्य स्तरीय कुश्ती प्रतियोगिता में राज्य भर के कुल १३० खिलाड़ियों ने दमखम दिखाया, इसमें गायत्री विद्यापीठ के ९६ किग्रा वर्ग में नवदीप कुमार, ६० किग्रा वर्ग में संकेत शर्मा व ४६ किग्रा वर्ग में अनुष्क पंत ने प्रथम स्थान प्राप्त किया, तो वहीं ऋत्विक चिकारा को द्वितीय स्थान मिला। स्वर्ण पदक प्राप्त खिलाड़ी जनवरी २०१८ में दिल्ली में होने वाली ६३ वीं स्कूल राष्ट्रीय प्रतियोगिता उत्तराखण्ड का प्रतिनिधित्व करेंगे। उल्लेखनीय है कि विगत दिनों सीनियर स्तर पर आयोजित कुश्ती प्रतियोगिता में देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के पाँच खिलाड़ियों का भी चयन राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए हुआ।

मुख्य अतिथि देसंविवि के कुलपति श्री शरद पारधी, जिला शिक्षा अधिकारी श्री मेहरबान सिंह विष्ट, जिला खेल समन्वयक श्री बालेश व देसंविवि के खेल अधिकारी नरेन्द्र सिंह ने विजयी खिलाड़ियों को सम्मानित किया।

राष्ट्रीय स्तर पर विद्यापीठ के कुश्ती खिलाड़ियों का चयनित होने पर विद्यापीठ के अभिभावकद्वय श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी व श्रद्धेया शैलदीदीजी ने बधाई दी। उन्होंने कहा कि लगन व मेहनत से ही सफलता प्राप्त होती है और यही विद्यापीठ के बच्चों के अंदर बोयी जा रही है। विद्यापीठ की व्यवस्था मण्डल की प्रमुख श्रीमती शेफाली पण्ड्याजी, उपप्रधानाचार्य श्री भास्कर सिन्हा सहित सभी शिक्षक- शिक्षिकाओं ने प्रसन्नता व्यक्त की।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....