Published on 2017-11-07

साधकों में मातृशक्ति श्रद्धांजलि महापुरश्चरण में भागीदारी के लिए है भारी उत्साह

शांतिकुंज में अंत:ऊर्जा जागरण मौन साधना सत्र १ नवम्बर २०१७ पुन: आरंभ हो गये। प्रथम सत्र की पूर्व संध्या पर आदरणीय श्री वीरेश्वर उपाध्याय जी साधकों को इनकी महत्ता समझायी। उन्होंने कहा कि परमात्मा ने मनुष्य को असीम सामर्थ्य प्रदान की है। यह साधना अपने मन और विचारों को एकाग्र कर उस सामर्थ्य को पहचानने और विकसित करने की साधना है। हमें इस विलक्षण सुयोग का लाभ उठाते हुए अपने इष्ट और अपने गुरु के साथ संबंधों को प्रगाढ़ करना चाहिए। यह संबंध ही साधक को उनके दिव्य संरक्षण व अनुदानों का अधिकारी बनाता है।

मातृशक्ति श्रद्धांजलि महापुरश्चरण में भागीदारी को लेकर लोगों में इस साधना के लिए विशेष उत्साह दिखाई दिया। शांतिकुंज के अंतेवासी भी अंत:ऊर्जा जागरण साधना सत्रों में भाग ले रहे हैं।

सत्र शृंखला २३ मार्च २०१८ तक चलेगी।
तिथियाँ : हर माह १ से ५, ६ से १०, ११ से १५,
१६ से २०, २१ से २५ और २६ से ३०
साधना में भाग लेने के लिए आवेदन तथा विस्तृत जानकारियों लिए संपर्क करें :-
ई- मेल : shivir@awgp.in
मोबाइल : ९२५८३६०७२३, ९२५८३६९७४९


Write Your Comments Here:


img

पूरे विश्व में 2,40,000 घरों में एक दिन, एक साथ विभिन्न स्थानों पर सामूहिक एक कुण्डीय यज्ञो का आयोजन

दिनांक-  02 जून 2019लक्ष्य-    (1)  सम्पूर्ण विश्व मे एक साथ- एक समय 2,40,000 घरों में यज्ञ - उपासनाउद्देश्य-     (1)  घर-घर गायत्री महाविद्या का तत्वदर्शन पहुँचाना, देव  स्थापना एवं नियमित उपासना।   (2)  अखण्ड ज्योति/प्रज्ञा पाक्षिक के पाठक/ ग्राहकों में वृद्धि .....

img

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 17वें वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम

प्राची एवं शाहनाजी दौड़ में रहे अव्वलकुलाधिपति ने विजयी खिलाड़ियों को किया पुरस्कृतसेवन स्टोन, कबड्डी, लंबी कूद, टीटी, जूडो आदि खेलों में खिलाड़ियों ने दिखाया दमखमहरिद्वार 19 मार्च।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 17वें वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ.....

img

देसंविवि में कुलपताका फहराने के साथ उत्सव-19 का हुआ शुभारंभ

उत्सव वह जो अपने अंदर उल्लास भर दे - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याहरिद्वार 17 मार्च।देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय की कुलपताका फहराकर 17 वें वार्षिकोत्सव का शुभारंभ किया। इस अवसर पर डॉ. पण्ड्या ने तीन दिवसीय उत्सव-19.....