Published on 2017-11-09

खरगोन। मध्य प्रदेश
निमाड़ क्षेत्र के प्रवास पर पहुँचे देव संस्कृति विश्विविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने गायत्री शक्तिपीठ खरगोन पर आयोजित परिवार मिलन संगोष्ठी को संबोधित किया। इस अवसर पर उन्होंने गायत्री परिवार को प्रेम और आत्मीयता के आधार पर बना देव परिवार बताया। उन्होंने कहा कि आज समाज में सृजनात्मक आन्दोलनों में सक्रिय अनेक स्वयंसेवी संगठन हैं, लेकिन पारिवारिकता का सर्वत्र नितांत अभाव है। मनुष्य की भाव संवेदनाएँ सुप्त होती जा रही हैं। समाजाजिक समरसता गायब हो रही है। यही आज की समस्त पारिवारिक और सामाजिक समस्याओं का मूल कारण है।

गायत्री परिवार के प्रत्येक सदस्य को सदैव ध्यान रखना चाहिए कि परम पूज्य गुरुदेव ने यह विराट संगठन प्रेम और आत्मीयता के आधार पर खड़ा किया है। यही हमारी पहचान है, हमें इन्हीं के आधार पर समाज में सूखती संवेदनाओं को पुनर्जीवित करना है।

इससे पूर्व कलेक्टर श्री अशोक वर्मा सहित स्थानीय प्रमुख कार्यकर्त्ता श्री लक्ष्मण पटेल, श्री कृष्णराव शर्मा, श्री पी.सी. चौहान, श्री योगेश पाटीदार ने शांतिकुंज प्रतिनिधियों का भावभरा स्वागत किया। इस अवसर पर श्रीमती शेफाली पण्ड्या भी उनके साथ थीं।


Write Your Comments Here:


img

धर्म- चेतना के परिष्कार के लिए चल रहा है अत्यंत लोकप्रिय उपक्रम

पुष्कर, अजमेर। राजस्थान विश्वप्रसिद्ध तीर्थ पुष्करराज की पौराणिक गरिमा को अभिनव प्रेरणाओं के साथ पुनर्जाग्रत् करने और तीर्थ को जीवंत.....