लात्वियाई मूल के गायत्री उपासकों ने यज्ञ किया, शीघ्र बनेगा केन्द्र

Published on 2017-11-22
img

लात्विया के २०-३० नागरिक डॉ. चिन्मय जी से प्रेरणा लेकर नियमित रूप से यज्ञ कर रहे हैं। उन्होंने डॉ. चिन्मय जी के संग सामूहिक यज्ञ का आयोजन किया। इसमें ४० लात्वियाई महानुभावों ने भाग लिया। सभी डॉक्टर अथवा वरिष्ठ जनप्रतिनिधि थे। शांतिकुंज प्रतिनिधि ने उन्हें बड़ी बारीकी के साथ यज्ञ का ज्ञान-विज्ञान समझाया, बताया कि व्यक्तित्व को ऊर्जावान एवं उपयोगी बनाये रखने में यह कैसे सहायक सिद्ध होता है।

डॉ. चिन्मय जी ने बताया कि गायत्री और यज्ञ के प्रति वहाँ के लोगों में आस्था निरंतर प्रगाढ़ होती जा रही है। एक-दो वर्षों में वहाँ गायत्री परिवार का केन्द्र विधिवत आरंभ हो जायेगा, ऐसी संभावना है।


Write Your Comments Here:


img

पर्यावरण संरक्षण के लिए हुई प्रशंसनीय पहल

एक डॉक्यूमेण्ट्री ने बदल दी लोगों की आदतयूनाइटेड किंगडमवर्षों बाद लंदन की कई कॉलोनियों में पहले की तरह सुबह- सुबह दूध की डिलीवरी करने वाले दिखने लगे हैं। अब लोग प्लास्टिक की बोतलों में नहीं, काँच की बोतलों में दूध.....

img

डलास, अमेरिका में हुआ १०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ

वैश्विक चुनौतियों का सामना करने के लिए संघबद्ध आध्यात्मिक पुरुषार्थ का आह्वान १५ अप्रैल को हिन्दू मंदिर सोसाइटी, डलास में १०८ कुण्डीय महायज्ञ सम्पन्न हुआ। गायत्री परिवार के सदस्यों सहित डलास और आसपास के नगरों से आये सैकड़ों श्रद्धालुओं ने.....

img

पूर्वी अफ्रीका में शांतिकुंज की टोली का प्रवास

यूगांडा, तंजानिया और केन्या में १०८ कुण्डीय यज्ञ हुएशांतिकुंज प्रतिनिधि श्री शांतिलाल पटेल, श्री ओंकार पाटीदार एवं श्री बसंत यादव की टोली ८ मार्च से १६ अप्रैल तक यूगांडा, तंजानिया और केन्या के प्रवास पर थी। इस प्रवास में तीनों.....