Published on 2017-11-01

छत्तीसगढ़िया, बनो सबसे बढ़िया

भिलाई। छत्तीसगढ़
दिया, भिलाई ने छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस- १ नवम्बर के दिन शा.उ.मा. विद्यालय सेक्टर ९ भिलाई, शा.उ.मा. विद्यालय कुरूद, कोहका एवं शा.उ.मा. विद्यालय सुपेला भिलाई में व्यक्तित्व निर्माण कार्यशालाओं का आयोजन किया। इन तीन कार्यशालाओं में लगभग १००० युवाओं को संबोधित करते हुए विश्व समाज के नवनिर्माण में भारत 'माता' और 'छत्तीसगढ़ महतारी' की भूमिका समझायी।

डॉ. पी.एल. साव, डॉ. योगेन्द्र कुमार, इं. युृगल किशोर, इं. सौरभकांति ने इन कार्यशालाओं को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि विश्व का एकमात्र देश भारत है जिसे 'माता' कहा जाता है, उसी प्रकार देश का एकमात्र राज्य 'छत्तीसगढ़ महतारी' नाम से जाना जाता है। सारा विश्व कह रहा है कि २१वीं सदी भारत की होगी। इस भवितव्यता को चरितार्थ करने में हम सबको अपनी भूमिका का बोध होना चाहिए और तद्नुरूप सक्रियता अपनानी चाहिए।

दिया, छत्तीसगढ़ ने नशे को यौवन और समाज का सबसे बड़ा दुश्मन बताया, इससे बचने के संकल्प दिलाये। गायत्री परिवार के विभिन्न रचनात्मक आन्दोलनों की जानकारी देते हुए उन्हें सभ्य समाज की स्थापना के बुनियादी कार्य बताये, इनमें सक्रिय भागीदारी का आह्वान किया।


Write Your Comments Here:


img

धर्म- चेतना के परिष्कार के लिए चल रहा है अत्यंत लोकप्रिय उपक्रम

पुष्कर, अजमेर। राजस्थान विश्वप्रसिद्ध तीर्थ पुष्करराज की पौराणिक गरिमा को अभिनव प्रेरणाओं के साथ पुनर्जाग्रत् करने और तीर्थ को जीवंत.....