देसंविवि में अंडर- २० राष्ट्रीय जुडो प्रतियोगिता में खिलाड़ियों ने दिखाया दमखम

Published on 2017-12-02

देश के ११ सेंटरों के ११९ खिलाड़ियों ने की भागीदारी
नार्मोल सेंटर का रहा दबदबा, देवभूमि के खिलाड़ियों ने जीता दिल

हरिद्वार, १९ नवम्बर।
जुडो फेडरेशन ऑफ इंडिया (जेएफआई) का अण्डर- २० का अंतर एसोसिएशन जुडो चैम्पियनशिप- २०१७ का आयोजन हरिद्वार के देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज में हुआ। इसमें हरिद्वार (उत्तराखंड), इंफाल, मणिपुर, अनंतपुर, नार्मोल, मिजोरम, दिल्ली, पं. बंगाल, सोनीपत व कोलकाता सहित कुल ११ सेंटरों के ११९ खिलाड़ियों ने दमखम दिखाया। हरिद्वार के खिलाड़ियों ने अपने खेल व व्यवहार से मेहमानों का दिल जीत लिया।

उत्तराखंड में पहली बार हो रहे अण्डर- २० जूडो चैम्पियनशिप में नार्मोल का दबदबा रहा। प्रतियोगिता में कई खिलाड़ियों के बीच कांटे की टक्कर हुई, तो कइयों ने अपने प्रतिद्वन्द्वी को कुछ ही पलों में पछाड़कर पदक पक्का किया। प्रतियोगिता में कई खिलाड़ियों ने पहली दांव में इपोन (पूरे अंक) लेकर गोल्ड लिया, तो कई खिलाड़ियों ने इपोन के लिए यूको, वजारी को जोड़ते हुए पदक हेतु अपना नाम दर्ज कराया। कइयों ने होल्डिंग टेक्निन के सहारे अपने प्रतिद्वन्द्वी को पछाड़ा।

अलग- अलग भार वर्ग में रविन्द्र -दिल्ली, सनेल्या- नार्मोल, मोनिका- नार्मोल, निकेश- नार्मोल, मोहित- गुरदासपुर ने प्रथम स्थान प्राप्त किया, तो वहीं जतिन सोलंकी- दिल्ली, करनौल सिंह- गुरदासपुर, चौबादेवी- इंफाल, अंशु मलिक- दिल्ली ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। विजयी खिलाड़ियों को ज्वालापुर विधायक श्री सुरेश राठौर, हरिद्वार ग्रामीण विधायक स्वामी यतीश्वरानंद, जुडो महासंघ के जनरल सेक्रेटरी यशवीर सिंह, केरल जुडो एसोशिएशन के अध्यक्ष श्री कुमार, आंध्रप्रदेश जुडो एसोशिएशन के अध्यक्ष वेंकट सेट्ठी, उत्तराखंड जुडो एसोशिएशन के अध्यक्ष एसएस राणा आदि अतिथियों ने सम्मानित किया। देसंविवि के जुड़ो प्रशिक्षक हेमंत कौशिक ने बताया कि इस प्रतियोगिता में जुनियर वर्ग के चैम्पियन आशीष मलिक, विक्रम, कायजोत, कुमार विक्रांत जैसे खिलाड़ियों ने भी दमखम दिखाया। तो वहीं हरिद्वार की तरुण, सोनिया, नंदिनी, तानिया, उमेश आदि ने अपने खेल व व्यवहार से मेहमानों का दिल जीत लिया।

जुडो एसोसिएशन हरिद्वार के अध्यक्ष राजीव शर्मा के अनुसार इस अण्डर- २० नेशनल जूडो चैम्पियनशिप में जुडो में अपने कैरियर संवारने के सपने देख रहे युवाओं ने अपना कौशल दिखाया। इसमें देश भर के ११ सेंटरों की टीम ने प्रतिभाग किया, तो अलग- अलग राज्य के ११ रेफरी ने महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। जेएफआई के अध्यक्ष श्री मुकेश कुमार, यशवीर सिंह आदि ने खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन किया।

img

देसंविवि में उसिनदिएना पर्व हर्षोल्लास के साथ सम्पन्न

आदमी की नस्ल सुधारने का कार्य कर रहा देसंविवि : डॉ. महेश शर्मावैश्विक एकता एवं शांति के लिए गायत्री परिवार पूरे विश्व में सक्रिय : डॉ. पण्ड्याजीरेनासा, संस्कृति संचार का हुआ विमोचन, डॉ. पण्ड्याजी ने अतिथियों को किया सम्मानितहरिद्वार २३.....

img

जीवन यज्ञमय हो : डॉ. पण्ड्याजी

डॉ पण्ड्याजी ने विद्यार्थियों को बताया मानव जीवन की गरिमा का धर्महरिद्वार २० अप्रैल।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि मानव जीवन यज्ञमय होना चाहिए। यज्ञ अर्थात् दान, भावनाओं का दान, कर्म का दान आदि। जो कुछ.....