Published on 2017-12-12
img

जगह- जगह एक ही दिन शिविर आयोजित हुए

टाटानगर। झारखंड
गायत्री परिवार युवा प्रकोष्ठ झारखंड की प्रांतीय इकाई ने ५ नवंबर को प्रत्येक जिले में रक्तदान शिविर आयोजित किये। पीड़ित मानवता की सेवा में किया गया यह प्रशंसनीय प्रयोग काफी सफल रहा। गायत्री परिवार के सृजनात्मक आन्दोलनों में भाग लेने वाले युवाओं ने देशभक्ति की भावना से ओतप्रोत होकर रक्तदान किया। सर्वाधिक सफलता टाटानगर (१०१ यूनिट), आदित्यपुर- सरायकेला (९० यूनिट), चाईबासा (५४ यूनिट), राँची (४४ यूनिट) और साहेबगंज (३५ यूनिट) में आयोजित शिविरों को मिली। पलामू, बोकारो, धनबाद, देवघर, गोड्डा, रामगढ़, लोहरदगा, हजारीबाग में आयोजित रक्तदान शिविर भी बहुत लोकप्रिय रहे। इस प्रयोग की पूरे राज्य में प्रशंसा हुई।

खनियाधाना, शिवपुरी। मध्य प्रदेश
गायत्री शक्तिपीठ खनियाधाना ने गाँधी जयंती के उपलक्ष्य में शक्तिपीठ पर रक्तदान शिविर का आयोजन किया। डॉ. पी.के. खरे के मार्गदर्शन में इस शिविर में १०५ यूनिट रक्तदान हुआ। युवाओं में रक्तदान के प्रति विशेष जागरूकता दिखाई दी। शिविर की सफलता में श्री संजय मिश्रा का सराहनीय सहयोग रहा, जबकि श्री बाबूलाल यादव ने रक्तदान करने वाले सभी परिजनों को परम पूज्य गुरुदेव का साहित्य भेंट कर सम्मानित किया।


Write Your Comments Here:


img

11 जनवरी, देहरादून। उत्तराखंड ।

दिनांक 11 जनवरी 2020 की तारीख में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी देहरादून स्थित ओएनजीसी ऑडिटोरियम में उत्तराखंड यंग लीडर्स कॉन्क्लेव 2020 कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे जहां पर उन्होंने उत्तराखंड राज्य के विभिन्न.....

img

ज्ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....

img

ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....