Published on 2017-12-14
img

जनपद अलवर राजस्थान के राजीव गाँधी चिकित्सालय IMA सभागार में डॉ ओ.पी.शर्माजी ने चिकित्सकों एवं गायत्री परिजनों के बीच गायत्री महामंत्र, आत्म बल बढाने का व्यावहारिक सूत्र एवं उसकी उपादयता को बताया। श्रीमती अमिता सक्सेना (DGO), जबलपुर से पधारी थी उन्हों ने भी संसकार सम्बंधित अपने वक्तव्य दिये। अंत में डॉ गायत्री शर्माजी ने पॉवर पॉइंट के माध्यम से आओं गढ़े संस्कारवान पीढ़ी का वैज्ञानिक एवं व्यवहारिक दृष्टि की चर्चा की। लगभग 15 महिला स्त्री रोग विशेषज्ञ ने अपने अपने चिकित्सालय में reception तथा प्रतिक्षालय में विडियो चलाने, क्लिनिक के बाहर स्ट्रीट होल्डिंग लगाने, क्लिनिक के अन्दर हेंगर टांगने, प्रचार पत्रक, सम्बंधित किताबे, ब्रोशर एवं स्टीकर गर्भवती माताओं को देने हेतु तथा ANC day के दिन पॉवर पॉइंट से गर्भोत्सव( womb ceremony) के द्वारा कार्याशाला चलाने पर सहमति व्यक्त की और बच्चों के डॉक्टर (pediatrician) डॉ सोमदत्त गुप्ता ने प्रसव के बाद बच्चों के 0-5वर्ष के शारीरिक एवं मानसिक विकास पर अध्यन कर शांतिकुंज भेजने हेतु सहमति व्यक्त की।

अंत में महिला डॉक्टर को डॉ गायत्री शर्माजी उनके उत्कृष्ट कार्य पर दुपट्टा द्वारा सम्मानित किया एवं डॉ सोमदत्त गुप्ता (शिशु रोग विशेषज्ञय) एवं डॉ त्रिपाठी (फिजिशियन) को डॉ. ओ.पी. शर्माजी ने दुपट्टा से सम्मानित किया। वरिष्ठ कार्यकर्ता श्री सतीश कुमार सारस्वतजी ने धन्यवाद दे कर के कार्यक्रम का समापन किया।


आओ गढ़ें संस्कारवान पीढ़ी कार्यालय
शांतिकुंज,हरिद्वार
उत्तराखंड
E-mail- garbhotsav@awgp.org
Contact us-7983903465


Write Your Comments Here:


img

11 जनवरी, देहरादून। उत्तराखंड ।

दिनांक 11 जनवरी 2020 की तारीख में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी देहरादून स्थित ओएनजीसी ऑडिटोरियम में उत्तराखंड यंग लीडर्स कॉन्क्लेव 2020 कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे जहां पर उन्होंने उत्तराखंड राज्य के विभिन्न.....

img

ज्ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....

img

ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....