६० वर्षीय गरीब वनवासी ने बरसाती नाले पर बनाये दो बाँध

Published on 2017-12-13
img

१० वर्ष के श्रम से अकेले ही बरसाती नाले पर बनाये दो बाँध

जो लोग पहले मजाक उड़ाते थे, वे अब सराहते नहीं थकते
१०० घरों को पानी की समस्या से छुटकारा मिला

मनेन्द्रगढ़, बिलासपुर। छत्तीसगढ़

सफलताएँ सुविधा- साधनों से नहीं मिला करतीं। बुलंद हौसले, कड़ी मेहनत और दृढ़ संकल्प हो तो सफलता की ऊँची- ऊँची उड़ान भरी जा सकती है। एक अत्यंत गरीब वनवासी गनपत सिंह गोंड़ की कहानी इसी तथ्य को सत्यापित करती है। ६० वर्षीय गनपत सिंह गोंड़ ने अपनी १० वर्षों की अथक मेहनत से अकेले ही पहाड़ी नाले पर १२- १२ फीट के दो अस्थाई बाँध बना लेने का करिश्मा किया है, जिनसे उस क्षेत्र के १०० घरों को पानी मिल रहा है।

गनपत सिंह गोंड़ मूलत: मंडला निवासी है। बहन की शादी होने पर वह भी साथ खडगवाँ ब्लॉक अंतर्गत ग्राम पंचायत जरौंधा आ गया। फिर अपने परिवार के साथ मनेंद्रगढ़ आकर वन- भूमि पर झोपड़ी बनाकर रहने लगा। तराई में पानी की काफी समस्या थी। वहाँ न कोई हैंडपंप था और न ही आसपास कहीं नदी और कुँआ। घर से कुछ ही दूरी पर पहाड़ के किनारे से एक बरसाती नाला बहता था। गनपत सिंह गौंड केवल अपनी ही नहीं, सबकी भलाई सोची और नाले पर अस्थाई बाँध बनाने के काम में अकेले ही जुट गया। कुछ समय तक तो लोग उसका खूब मजाक उड़ाते थे, लेकिन गनपत सिंह अविचलित अपने काम में जुटा रहा और वह कर दिखाया जिसकी लोग कल्पना भी नहीं कर सकते थे। आज जिन सैकड़ों घर के लोगों की पानी की समस्या दूर हो गयी है, वह उसकी प्रशंसा के पुल बाँधते नहीं थकते।

दो बार मिला सम्मान
गनपत को उसके उल्लेखनीय कार्य के लिए अब तक दो बार सम्मानित किया जा चुका है। २०१३ में हुए सार्वजनिक ध्वजारोहण कार्यक्रम में उसे शॉल, श्रीफल और नकद राशि देकर सम्मानित किया गया तथा दूसरी बार नगर की हास्य सेवा समिति ने सम्मान स्वरूप ५०० रुपए और श्रीफल दिया।

प्रशासन ने समझा महत्त्व
पहले तो बुजुर्ग गनपत के कार्यों को प्रशासन ने अतिक्रम माना और एसडीएम साहब बाँध तोड़ने के लिए मौके पर पहुँचे थे। लेकिन जब उसके पुरुषार्थ को देखा तो अपने कार्यालय बुलाकर गनपत की हौसला अफ़जाई की, उसे वन अधिकार पत्र भी देने की बात कही, साथ ही पक्का बाँध बनवाने का आश्वासन भी दिया। गतवर्ष तत्कालीन वनमंडलाधिकारी एस. वेंकटाचलम ने भी वन भूमि का अधिकार पत्र दिए जाने का आश्वासन दिया।

img

सभ्य समाज के निर्माण के लिए हो रहे कुछ आदर्श- अनुकरणीय कार्य

१०० वृक्ष- स्मारकनडियाद, खेड़ा। गुजरातराष्ट्रीय ख्याति के हृदयरोग विशेषज्ञ डॉ. अनिल झा गायत्री परिवार के कार्यकर्त्ताओं के लिए एक आदर्श हैं। अपने अत्यधिक व्यस्त कार्यक्रमों के बीच भी वे युग निर्माण आन्दोलनों को गति देने का कोई अवसर हाथ से.....

img

भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा- प्रतिभा प्रोत्साहन, पुरस्कार वितरण का क्रम

जैसलमेर। राजस्थान२९ मार्च को गायत्री शक्तिपीठ जैसलमेर पर भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा पुरस्कार वितरण समारोह सम्पन्न हुआ। मुख्य अतिथि श्रीमती कविता कैलाश खत्री, विशिष्ट अतिथि श्रीमती अंजना मेघवाल, जिला प्रमुख कानसिंह राजपुरोहित एवं सुभाष चंद्र तिवारी तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता.....


Write Your Comments Here: