Published on 2017-12-14
img

इसका उद्देश्य था सभी को निरोगी काया और मानसिक स्थिरता के लिए प्रेरित करना।

कुलपति श्री शरद पारधी, पेफी के राष्ट्रीय सचिव डॉ. पीयूष जैन व डॉ. अजय मलिक ने दीप प्रज्वलन कर इसका शुभारंभ किया। शिक्षाशास्त्र विभाग के प्रो. सुरेश वर्णवाल ने स्वागत उद्बोधन दिया। तत्पश्चात् श्री शरद पारधी जी ने अपने उद्बोधन में कहा कि स्वस्थ व्यक्ति की पहचान सात बल- शरीर बल, मनोबल, बुद्धि बल, विद्या बल, चरित्र बल, आत्म बल व धन बल के आधार पर करायी। पेफी के राष्ट्रीय सचिव डॉ. पीयूष जैन ने पूरी तरह से स्वस्थ रहने के लिए संतुलित आहार लेने पर बल दिया।

कार्यशाला के द्वितीय सत्र में पेफी श्री आर. के. एस. डागर तथा तकनीकी सत्र में डॉ. जगवीर सिंह ने जीवन को खेल- भावना से जीने की सीख दी। कार्यशाला में कई शोधपत्र प्रस्तुत किये गये।


Write Your Comments Here:


img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....

img

देसंविवि का 35वाँ ज्ञानदीक्षा समारोह 21 जुलाई को

हरिद्वार 19 जुलाईजीवन विद्या के आलोक केन्द्र देव संस्कृति विश्वविद्यालय का 35वाँ ज्ञानदीक्षा समारोह 21 जुलाई को सम्पन्न होगा। इस समारोह में सर्टीफिकेट, डिप्लोमा, स्नातक व परास्नातक के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं को दीक्षित किया जायेगा। समारोह के मुख्य अतिथि केन्द्रीय मानव.....