देसंविवि में फिटनेश फॉर आॅल विषय पर हुई एक दिवसीय कार्यशाला

Published on 2017-12-14
img

इसका उद्देश्य था सभी को निरोगी काया और मानसिक स्थिरता के लिए प्रेरित करना।

कुलपति श्री शरद पारधी, पेफी के राष्ट्रीय सचिव डॉ. पीयूष जैन व डॉ. अजय मलिक ने दीप प्रज्वलन कर इसका शुभारंभ किया। शिक्षाशास्त्र विभाग के प्रो. सुरेश वर्णवाल ने स्वागत उद्बोधन दिया। तत्पश्चात् श्री शरद पारधी जी ने अपने उद्बोधन में कहा कि स्वस्थ व्यक्ति की पहचान सात बल- शरीर बल, मनोबल, बुद्धि बल, विद्या बल, चरित्र बल, आत्म बल व धन बल के आधार पर करायी। पेफी के राष्ट्रीय सचिव डॉ. पीयूष जैन ने पूरी तरह से स्वस्थ रहने के लिए संतुलित आहार लेने पर बल दिया।

कार्यशाला के द्वितीय सत्र में पेफी श्री आर. के. एस. डागर तथा तकनीकी सत्र में डॉ. जगवीर सिंह ने जीवन को खेल- भावना से जीने की सीख दी। कार्यशाला में कई शोधपत्र प्रस्तुत किये गये।

img

देसंविवि में उसिनदिएना पर्व हर्षोल्लास के साथ सम्पन्न

आदमी की नस्ल सुधारने का कार्य कर रहा देसंविवि : डॉ. महेश शर्मावैश्विक एकता एवं शांति के लिए गायत्री परिवार पूरे विश्व में सक्रिय : डॉ. पण्ड्याजीरेनासा, संस्कृति संचार का हुआ विमोचन, डॉ. पण्ड्याजी ने अतिथियों को किया सम्मानितहरिद्वार २३.....

img

जीवन यज्ञमय हो : डॉ. पण्ड्याजी

डॉ पण्ड्याजी ने विद्यार्थियों को बताया मानव जीवन की गरिमा का धर्महरिद्वार २० अप्रैल।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि मानव जीवन यज्ञमय होना चाहिए। यज्ञ अर्थात् दान, भावनाओं का दान, कर्म का दान आदि। जो कुछ.....