Published on 2017-12-14
img

गोपीगंज (भदोही) : देश के विभिन्न हिस्सों से भ्रमण करते गुरुवार को गोपीगंज नगर में स्थित संत विवेकानंद उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में पहुंचे गायत्री परिवार को युवा क्रांति रथ का जोरदार स्वागत किया गया।गायत्री परिवार शांतिकुंज, हरिद्वार के तत्वावधान में निकला रथ भारत के चारों दिशाओं जम्मू-कश्मीर, गुवाहाटी, द्वारिका, कन्याकुमारी से चलकर 22 जनवरी को नागपुर में पहुंचेगा जहां राष्ट्रीय युवा चेतना शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा संबोधित किया जाएगा। उसी कड़ी में कश्मीर से चलकर अयोध्या, गोरखपुर, काशी जैसे प्रमुख तीर्थ से रथ उर्जा लेता हुआ गुरुवार को गोपीगंज नगर पहुंचा। जहां विद्यालय के प्राचार्य अजय त्रिपाठी के नेतृत्व में जोरदार स्वागत किया गया। इस दौरान चलचित्र के जरिए नशा उन्मूलन, नारी जागरण, स्वास्थ्य समर्थन, कुरीतियों के उन्मूलन, पर्यावरण संरक्षण आदि विषयों के बारे में लोगों को जागरुक किया गया। इस मौके पर पं.राधेश्याम उपाध्याय, ज्ञानेश्वर अग्रवाल, सुधाकरनाथ तिवारी, मनोज श्रीवास्तव, राजेंद्र कुमार, सर्वेश शुक्ला, बीडी पांडेय, ब्रम्हदेव उपाध्याय, मनोज दुबे, रामराज ¨सह, नरेंद्र दुबे आदि थे। शैलेंद्र प्रताप ¨सह, नरेंद्र मोदनवाल, कैलाश दुबे आदि ने रथ की आरती उतारी। इसके पश्चात रथ खमरिया होते हुए मीरजापुर जनपद के लिए प्रस्थान किया।


Write Your Comments Here:


img

11 जनवरी, देहरादून। उत्तराखंड ।

दिनांक 11 जनवरी 2020 की तारीख में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी देहरादून स्थित ओएनजीसी ऑडिटोरियम में उत्तराखंड यंग लीडर्स कॉन्क्लेव 2020 कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे जहां पर उन्होंने उत्तराखंड राज्य के विभिन्न.....

img

ज्ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....

img

ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....