Published on 2017-12-10
img

नशे से मुक्ति के लिए प्रबल इच्छा शक्ति का होना जरूरी है। यह कपालभाति, भस्त्रिका प्राणायाम से मिलती है। इसलिए आगामी 26 जनवरी तक 20 हजार गांवों में योग को पहुंचाना चाहते हैं, ताकि लोग स्वस्थ रहें। व्यक्ति यदि एक टुकड़ा अदरक में सेंधा नमक मिलाकर रोजाना सेवन करे तो कुछ दिन बाद ही वह तंबाकू, सिगरेट, बीड़ी, मदिरा से मुक्ति पा लेगा। यह कहना है छत्तीसगढ़ योग आयोग के अध्यक्ष योगाचार्य संजय अग्रवाल का। पत्रकार वार्ता में उन्होंने बताया-बस्तर, रायपुर एवं दुर्ग संभाग के विभिन्ना ब्लॉकों से आए प्रतिभागियों को योग का प्रशिक्षण दिया। वे लोग आज अपने-अपने क्षेत्र में लोगों को योग के प्रति जागरूक कर रहें हैं, रोजाना योग करवा रहे हैं। जेलों में कैदियों को भी स्ट्रेस फ्री लाइफ जीने के लिए योग एवं प्राणायाम का प्रशिक्षण दे रहे हैं। इनमें वे कैदी भी हैं, जिनका केस कोर्ट में चल रहा है और वे भी हैं जो सजा काट रहे हैं।अग्रवाल ने बताया कि योग आयोग का लक्ष्य है कि समूचा छत्तीसगढ़ योग के माध्यम से स्वस्थ रहे और व्यसन मुक्त जीवन जीये। छत्तीसगढ़ को योग के क्षेत्र में मॉडल राज्य बनाना चाहते हैं, जिससे देश के अन्य प्रदेश छत्तीसगढ़ को फॉलो करें। उन्होंने कहा कि हमारा एक लक्ष्य और भी है कि 26 जनवरी 2018 के पहले छत्तीसगढ़ के 20 हजार गांवों तक योग पहुंचे। आगामी शिक्षा सत्र से योग विषय हर स्कूल में शुरू करवाएंगे। इसके लिए स्कूलों के पीटी टीचर को योग व प्राणायाम का प्रशिक्षण दे रहे हैं। आयोग अध्यक्ष अग्रवाल, सदस्य डॉ. रवि श्रीवास व सचिव एमएल पांडेय ने आग्रह किया कि आगामी 12 दिसंबर को अमलेश्वर में आयोजित होने वाले योग प्रशिक्षण शिविर में वे पहुंचकर जरूर लाभ लें।


Write Your Comments Here:


img

नशाबन्दी अभियान का 69वाँ सप्ताह

उपजेल सोनकच्छ में कार्यक्रम आयोजित देवास। मध्य प्रदेश गायत्री परिवार देवास द्वारा चलाये जा रहे साप्ताहिक नशाबन्दी अभियान का.....

img

नशाबन्दी अभियान का 69वाँ सप्ताह

उपजेल सोनकच्छ में कार्यक्रम आयोजित देवास। मध्य प्रदेश गायत्री परिवार देवास द्वारा चलाये जा रहे साप्ताहिक नशाबन्दी अभियान का.....