Published on 2017-12-26

ग्रामोत्कर्ष-२०१७  
२०० गाँवों में आदर्श ग्राम योजना आरंभ करने का है लक्ष्य
छ: गाँवों के लोगों ने योजना तत्काल लागू करने के संकल्प लिये

डॉ. साहब का वीडियो संदेश
शांतिकुंज से आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी ने इसके लिए अपना वीडियो संदेश प्रेषित किया था। उन्होंने अपने संदेश में गाँव की समस्याएँ गाँवों में ही सुलझाने, बाल विवाह, दहेज, पर्दाप्रथा जैसी कुप्रथाएँ दूर करने, प्रौढ़ महिलाओं को साक्षर एवं युवाओं को स्वावलम्बी बनाने पर विशेष बल दिया।

जैसलमेर। राजस्थान
'दिया' राजस्थान द्वारा जैसलमेर में  ९ से ११ नवम्बर की तारीखों में आयोजित वार्षिक प्रांतीय सम्मेलन का 'ग्रामोत्कर्ष २०१७' आयोजित किया गया। इस क्षेत्र में राष्ट्रीय स्तर पर लोकप्रियता प्राप्त कर चुके कई महानुभावों की कार्यक्रम में भागीदारी रही। उनकी प्रेरणा और गायत्री परिवार की योजनाओं से प्रभावित होकर क्षेत्र के छ: गाँवों-खींया, सुल्ताना, लखा, लुणा, डागरी और गेराजा के प्रतिनिधियों द्वारा अपने गाँव के आदर्श विकास का संकल्प लिया जाना सम्मेलन की महान उपलब्धि रही। दिया के प्रांतीय संगठन ने प्रदेश के २०० गाँवों में इस योजना को लागू करने का लक्ष्य रखा है।
 
तीन दिवसीय कार्यक्रम का शुभारंभ क्रांतिकारी सर्वसमाज जनचेतना रैली के साथ हुआ। स्थानीय विधायक श्री छोटू सिंह व नगर के गणमान्यों ने इसका नेतृत्व किया। पहली बार जैसलमेर के सभी समाज, वर्ग, संगठन ज्ञानयज्ञ की लाल मशाल के नीचे दिखाई दिये। मंगल कलशों के साथ ऊँटों पर महापुरुषों की सजीव झाँकी, सप्त आन्दोलनों की झाँकी से सजी थी यह रैली।

अगले दिन सायं राष्ट्र जागरण महिला सशक्तिकरण  दीपयज्ञ सम्पन्न हुआ। इसमें जिला प्रमुख श्रीमती अंजना मेघवाल, नगर परिषद अध्यक्ष श्रीमती कविता खत्री मुख्य रूप से सम्मिलित थी।  इस अवसर पर उन महिलाओ को विशेष रूप से सम्मानित किया गया, जिन्होने कठिन परिस्थितियों से लड़कर अपनी  बेटियों को शिक्षित कर समाज  में उच्च स्थान पर पहुचाया है।
 
११ नवम्बर को आयोजित मुख्य कार्यक्रम की विषयवस्तु थी 'आओ चले गाँव की ओर'। सम्मेलन में स्थानीय  विधायक, जिला प्रमुख , नगर परिषद अध्यक्ष, शहर के प्रबुद्ध नागरिकों सहित क्षेत्र के १५० गाँवों के प्रतिनिधि उपस्थित थे। शांतिकुंज में ग्राम प्रबंधन प्रकोष्ठ प्रभारी डॉ. डी.पी. सिंह, मैग्सेसे सम्मान प्राप्त श्री राजेन्द्र सिंह, सुप्रसिद्ध आदर्श ग्राम हिवरे बाज़ार के सरपंच पोपट राव पंवार, गो विज्ञान अनुसंधान केन्द्र, नागपुर के प्रमुख श्री सुनील मानसिंगका तथा गायत्री परिवार के राजस्थान ज़ोन प्रभारी श्री घनश्याम पालीवाल ने मुख्य रूप से उनका मार्गदर्शन किया।

डॉ. डी.पी. सिंह ने केंचुआ पालन, मधुमक्खी पालन जैसे उद्योगों के लिए जैसलमेर क्षेत्र को उपयुक्त बताया। श्री राजेन्द्र सिंह ने मरू क्षेत्र में जल संरक्षण एवं अन्य छोटी-छोटी योजनाओं की चर्चा की। श्री पोपट राव पंवार ने ग्राम स्वराज के मूल स्वरूप से अवगत कराते हुए अपने अनुभव सांझा किये। श्री सुनिल मानसिंगका ने कहा कि गो सरंक्षण के बिना आदर्श गांव की कल्पना भी असम्भव है।

दिया, राजस्थान के संयोजक ने अपनी योजनाएँ स्पष्ट करते हुए परस्पर सहयोग एवं सहकार से २०० गाँवों में ग्राम विकास योजना आरंभ करने की इच्छा व्यक्त की। खींया, सुल्ताना, लखा, लुणा, डांगरी, गेराजा  के प्रतिनिधियो ने प्रशंसनीय पहल करते हुए योजना को तत्काल प्रभाव से आरंभ करने के संकल्प लिये।


Write Your Comments Here:


img

नशाबन्दी अभियान का 69वाँ सप्ताह

उपजेल सोनकच्छ में कार्यक्रम आयोजित देवास। मध्य प्रदेश गायत्री परिवार देवास द्वारा चलाये जा रहे साप्ताहिक नशाबन्दी अभियान का.....