Published on 2018-01-04
img

कोलकाता। प.बंगाल
गायत्री परिवार यूथ ग्रुप कोलकाता ने दिनांक २४ दिसम्बर को ३७३ वाँ रविवासरीय वृक्षारोपण कार्यक्रम सम्पन्न किया। इस अभियान में शामिल होने पटना से एक युवक  श्री आशीष कुमार, जो पीएच.डी. मैथेमैटिक्स का विद्यार्थी है, आया और वृक्षारोपण कर उसी दिन लौट गया। इस युवक के संकल्प और उत्साह की कथा-गाथा नि:संदेह प्रेरक एवं अभिनंदनीय। उसने बताया-

मैं 10 दिसम्बर को डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी की मुख्य उपस्थिति में पटना में आयोजित यूथ एक्स्पो में उपस्थित था। इसमें गायत्री की विचारधारा और गतिविधियों के विषय में जानकर मैं बहुत उत्साहित हुआ। मैंने दो संकल्प लिये, 1-अपने विवाह में दहेज नहीं लूँगा और 2. वृक्षारोपण करूँगा। अपने संकल्प को यथाशीघ्र पूरा करने की हूक निरंतर बनी रहती थी। इसी बीच पता चला कि गायत्री परिवार यूथ ग्रुप पिछले 7 वर्षों से लगातार वृक्षारोपण कर रहा है तो निश्चय किया कि इसी ग्रुप के साथ वृक्षारोपण कर अपना संकल्प पूरा करूँगा, ताकि वृक्षारोपण के विषय में अधिक से अधिक जानकारी और प्रेरणा मिल सके। आज आप सबसे मिलकर और अपना संकल्प पूरा कर जो खुशी हो रही है, उसे शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकता। गुरुदेव मुझे इस अभियान को गति देने की शक्ति प्र्रदान करें। मैं 1 जुलाई 2018 को वृक्षारोपण के 400वें सप्ताह में आप सबके बीच पुन: उपस्थित होऊँगा।


Write Your Comments Here:


img

11 जनवरी, देहरादून। उत्तराखंड ।

दिनांक 11 जनवरी 2020 की तारीख में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी देहरादून स्थित ओएनजीसी ऑडिटोरियम में उत्तराखंड यंग लीडर्स कॉन्क्लेव 2020 कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे जहां पर उन्होंने उत्तराखंड राज्य के विभिन्न.....

img

ज्ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....

img

ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....