Published on 2018-01-06

यूथ एक्स्पो में कुरीतियों से संघर्ष का आह्वान, विधानसभा अध्यक्ष ने भी किया युग निर्माणी युवाओं का मार्गदर्शन
पटना। बिहार

प्रान्तीय युवा प्रकोष्ठ पटना द्वारा पटना के मुक्ताकाश मंच पर 'यूथ एक्स्पो' का आयोजन किया गया, जिसमें १० हजार से अधिक युवाओं ने भाग लिया। इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य बाल विवाह एवं दहेज प्रथा के विरुद्ध आवाज उठाने के साथ-साथ युवाओं को ब्रह्मचर्य की महत्ता समझाना एवं उन्हें संयमित जीवन जीने के लिए प्रेरित करना था। इन कुरीतियों के समूल उन्मूलन के लिए सरकारी स्तर पर भी प्रयास हों, ऐसी आशा रखी गयी। उपस्थित युवाओं को संगठित होकर इसके लिए सरकार पर दबाब  बनाने के लिए प्रेरित किया गया।

यूथ एक्स्पो के मुख्य वक्ता डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी, प्रतिकुलपति  देव संस्कृति विश्वविद्यालय थे। बिहार विधान सभा के अध्यक्ष श्री विजय कुमार चौधरी मुख्य अतिथि के रूप में और श्री रणवीर नन्दन व श्री छोटू जी विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित हुए। उनके प्रेरक वचनों ने उपस्थित युवाओं का मार्गर्शन करते हुए सामाज के नवनिर्माण में उल्लेखनीय भूमिका निभाने की उमंग जगायी।

डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी ने कहा कि आज युवाओं के समक्ष यह यक्ष प्रश्न बना हुआ है कि वह अपनी प्रतिभा के विकास के लिए कौन सा कारगर उपाय अपनाएँ जिसमें वे सफल हो सकें, उनकी प्रगति का पथ प्रशस्त हो और सार्थक जीवन की ओर आगे बढ़ सकें? निश्चय ही युवा आने वाले समय के कर्णधार हैं और उन्हें सही दिशाधारा अभी से निर्धारित करनी होगी। अभी जो समय मिला है, उसके पल-पल का सदुपयोग करना होगा, तभी कोई सार्थक हल निकलेगा।

डॉ. चिन्मयजी ने दिग्भ्रमित होती युवाशक्ति को सद्बुद्धि की देवी गायत्री की उपासना करने, विवेकशीलता का उपयोग करते हुए संयमित जीवन क्रम अपनाने, समाज में व्याप्त कुरीतियों के दमन-शमन के लिए योजनाबद्ध तरीके से प्रयास करने, इसके लिए समाज के अनुभवी लोगों की भी सहायता लेने के लिए प्रेरित किया।

डॉ. चिन्मय जी के अतिरिक्त श्री विजय कुमार ने भी नशामुक्ति, दहेजरहित विवाह के प्रचलन पर जोर दिया। श्री रणवीर नन्दन ने राजनीति का दारोमदार युवाशक्ति पर निर्भर बताया। श्री छोटू जी ने भेदभावों से दूर सौम्य तरीके से जीवन जीने पर जोर दिया। युवा प्रकोष्ठ के मनीष कुमार ने युवाओं को चुनौतियों कासामना कर अपनी राह खुद बनाने को कहा।

कार्यक्रम में बच्चों और युवाओं द्वारा मिशन के सप्त आन्दोलनों पर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए गए। मंच संचालन शांतिकुंज से पधारे श्री आशीष सिंह ने किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में युवा प्रकोष्ठ के सर्वश्री ज्ञान प्रकाश, निशान्त रंजन, प्रिंस रंजन, राजीव, अभिषेक, विसला आदि का विशिष्ट योगदान रहा।


Write Your Comments Here:


img

देसंविवि, शांतिकुंज व विद्यापीठ में हर्षोल्लास के मना स्वतंत्रता दिवस

हरिद्वार 16 अगस्त।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय, गायत्री विद्यापीठ व शांतिकुंज ने आजादी के 73वीं वर्षगाँठ के उल्लासपूर्वक मनाया। इस मौके पर देसंविवि व शांतिकुंज में विवि के कुलाधिपति अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या, संस्था प्रमुख श्रद्धेया शैल दीदी.....

img

देसंविवि, शांतिकुंज व विद्यापीठ में हर्षोल्लास के मना स्वतंत्रता दिवस

हरिद्वार 16 अगस्त।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय, गायत्री विद्यापीठ व शांतिकुंज ने आजादी के 73वीं वर्षगाँठ के उल्लासपूर्वक मनाया। इस मौके पर देसंविवि व शांतिकुंज में विवि के कुलाधिपति अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या, संस्था प्रमुख श्रद्धेया शैल दीदी.....

img

हरिद्वार 16 अगस्त।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय, गायत्री विद्यापीठ व शांतिकुंज ने आजादी के 73वीं वर्षगाँठ के उल्लासपूर्वक मनाया। इस मौके पर देसंविवि व शांतिकुंज में विवि के कुलाधिपति अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या, संस्था प्रमुख श्रद्धेया शैल दीदी.....