युगसृजेताओं की टकसाल में तराशे जा रहे हैं युग निर्माणी

Published on 2018-01-08
img

युगसृजेताओं की टकसाल में तराशे जा रहे हैं युग निर्माणी

आश्वमेधिक उमंग और युग सृजेता युवा संकल्प समारोह के उत्साह के साथ हुआ वर्ष- 2018 का स्वागत

युगसृजेताओं की छावनी शांतिकुंज में वर्ष- 2018 का स्वागत दुनिया से निराले अंदाज में हुआ। जहाँ दुनिया में नये वर्ष का स्वागत मौज- मस्ती, हो- हल्ला, आतिशबाजियों के साथ होता है, वहीं शांंतिकुंज में परम्पराओं को बदलने, विकृतियों को बुहारने और संस्कृति को उभारने की तैयारियाँ चल रही थीं। नये साल की पूर्व संध्या पर ‘अश्वमेध गायत्री महायज्ञ, मंगलगिरि’ को सम्पन्न कराने आचार्यों की टोलियाँ रवाना हो रही थीं, वहीं ‘युगसृजेता युवा संकल्प समारोह, नागपुर’ की तैयारियाँ भी जोरशोर से चल रही थीं। हर किसी के मन- मस्तिष्क में स्वतंत्रता सेनानियों जैसा उत्साह था। ‘हम बदलेंगे, युग बदलेगा’ के संकल्प के साथ ‘युग परिवर्तन’ के ताने- बाने बुने जा रहे थे।
नववर्ष के प्रथम दिन हजारों श्रद्धालु शांतिकुंज आये। यज्ञशाला की अखण्ड अग्नि में यज्ञ किया, गुरुदेव- माताजी के श्रीचरणों में श्रद्धा- सुमन समर्पित करते हुए अपनी श्रद्धा- सक्रियता को निरंतर प्रगाढ़ करते रहने का आशीर्वाद लिया। श्रद्धेया जीजी एवं श्रद्धेय डॉ. साहब से आशीर्वाद एवं नववर्ष का प्रसाद प्राप्त करने का क्रम कई घंटे चला।

img

देसंविवि में उसिनदिएना पर्व हर्षोल्लास के साथ सम्पन्न

आदमी की नस्ल सुधारने का कार्य कर रहा देसंविवि : डॉ. महेश शर्मावैश्विक एकता एवं शांति के लिए गायत्री परिवार पूरे विश्व में सक्रिय : डॉ. पण्ड्याजीरेनासा, संस्कृति संचार का हुआ विमोचन, डॉ. पण्ड्याजी ने अतिथियों को किया सम्मानितहरिद्वार २३.....

img

जीवन यज्ञमय हो : डॉ. पण्ड्याजी

डॉ पण्ड्याजी ने विद्यार्थियों को बताया मानव जीवन की गरिमा का धर्महरिद्वार २० अप्रैल।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि मानव जीवन यज्ञमय होना चाहिए। यज्ञ अर्थात् दान, भावनाओं का दान, कर्म का दान आदि। जो कुछ.....