शिक्षकों द्वारा बच्चों के व्यक्तित्व विकास का प्रशंसनीय प्रयास

Published on 2018-01-08
img

शिक्षकों द्वारा बच्चों के व्यक्तित्व विकास का प्रशंसनीय प्रयास

135 विद्यार्थी प्रत्येक अवकाश के दिन करते हैं सामूहिक मंत्र लेखन
पौंसरा, बिलासपुर। छत्तीसगढ़
प्रखर प्रज्ञा मण्डल पौंसरा से जुड़े शिक्षकों ने विद्यार्थियों के जीवन में सात्विकता एवं सुविचारों का समावेश के लिए उन्हें गायत्री उपासक बनाने का विशेष अभियान चलाया है। इस क्रम में विद्यार्थियों से प्रत्येक रविवार को सामूहिक मंत्र लेखन कराया जाता है। वे मिडिल स्कूल एवं हायर सेकेण्ड्री स्कूल पौसरा में एकत्रित होकर सामूहिक गायत्री मन्त्र लेखन करते हैं।
यह क्रम 2015 से चल रहा है। प्रारम्भ में केवल तीन छात्र इसमें जुड़े थे। आज 135 छात्र-छात्राएँ अवकाश का सदुपयोग करते हुए मन्त्र लेखन कर रहे हैं। अब तक छात्रों द्वारा 1 लाख 34 हजार मन्त्र लेखन किए जा चुके हैं। इसका नेतृत्व मिडिल स्कूल के शिक्षक श्री तुलेश्वर प्रसाद गौरहा, प्रखर प्रज्ञा मण्डल के सदस्य श्री अमरनाथ श्रीवास्तव एवं श्री केशव प्रसाद काछी कर रहे हैं। ये शिक्षक लोगों से सम्पर्क करके उन्हें व उनके बच्चों को मन्त्र लेखन के लिए प्रेरित करते हैं, साथ ही शराब, मांस आदि त्यागने को भी कहते हैं। युग निर्माणियों को ऐसे प्रभावी कदम साथ-साथ मिलकर उठाने चाहिए।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री परिवार यूथ ग्रुप कोलकाता ने आरंभ किए कई नये अभियान

विश्व पर्यावरण दिवस पर गतिशील हुआ वृक्षगंगा अभियानजगदल में हर गुरुवार को होगा वृक्षारोपणकोलकाता। प. बंगालगायत्री परिवार यूथ ग्रुप कोलकाता ने विश्व पर्यावरण दिवस से एक नई पहल की। उस दिन जगदल में १०१ पेड़ लगाये गये। इसके साथ जगदल.....

img

छत्तीसगढ़ में चल रही है व्यक्तित्व निर्माण आवासीय शिविरों की शृंखला

विजन -२०२६ के अंतर्गत चल रहा है अभियान २७ शिविर आयोजित होंगेजनवरी २०१८ को नागपुर में आयोजित युग सृजेता युवा सम्मेलन का एक महत्त्वपूर्ण सूत्र था च्विजन -२०२६ज् का आधार युवा जागृति अभियान है। छत्तीसगढ़ के प्रांतीय युवा संगठन ने.....

img

बिहार शक्तिपीठ प्रांगण में १०८ पौधे रोपे

१५००  पेड़ सभी १४ ब्लॉकों में  रोपे जायेंगेनवादा। बिहारगायत्री शक्तिपीठ नवादा ने विश्व पर्यावरण दिवस पर शक्तिपीठ प्रांगण में १०८ पौधे लगाते हुए इस वर्ष के संकल्पित वृक्षगंगा अभियान का शुभारंभ किया। उल्लेखनीय है कि शक्तिपीठ से.....