Published on 2018-01-09
img

एमबीए, एमएससी, एमए, बीएड, बीएससी, बीए व सर्टीफिकेट पाठ्यक्रमों के 380 छात्र- छात्राओं की 132 टोलियाँ परिव्रज्या पर निकली हैं। वे महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, अरुणाचल, प. बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, केरल, गोवा, आंध्र प्रदेश, राजस्थान प्रांतों एवं नेपाल के ढाई सौ से अधिक शहर- कस्बों में 1000 से अधिक कार्यक्रम करेंगी।

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 380 छात्र- छात्राओं की 132 टोलियाँ 21 एवं 22 दिसम्बर को देश भर के ढाई सौ से अधिक जिलों के लिए रवाना हुर्इं। ये विद्यार्थी अपने परिवीक्षा काल में योग, स्वास्थ्य, युवा जागरण, नारी जागरण सहित विभिन्न कार्यक्रम सम्पन्न करायेंगे।

कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी ने टोलियों की रवानगी से पूर्व विदाई उद्बोधन दिया। इसमें उन्होंने विद्यार्थियों को ‘बी बॉर्न अगेन’ का मंत्र देते हुए इंटर्नशिप को एक नये जन्म जैसा अवसर बताया। उन्होंने कहा कि परिवीक्षा में जहाँ विद्यार्थियों को अपने सीखे हुए ज्ञान का व्यावहारिक प्रयोग करने का विलक्षण अवसर मिलता है, वहीं समाज से भी हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है। परिव्रज्या जीवन को परिपक्व बनाती है। दुनिया बदलेगी, तो परिव्राजकों से ही बदलेगी।

श्रद्धेय डॉ. साहब ने अपने विद्यार्थियों को अपने इष्ट का संदेशवाहक बनने की प्रेरणा दी। ऐसा करने से आपकी शक्तियाँ सौ गुनी हो जायेंगी, वहीं अपना चरित्र, चिंतन और व्यवहार अपने इष्ट के अनुरूप बनाये रखने की नैतिक जिम्मेदारी भी आप पर होगी।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....