Published on 2018-02-10
img

मोक्ष क्या है? मुक्ति क्या है? यह प्रश्न हर भारतीय संस्कृति के पक्षधर मानव के मन में सहज ही उठता रहा है, सदा से ही, उसके पृथ्वी पर आविर्भाव के काल से। कई व्यक्ति यह समझते हैं, मोक्ष मरने के बाद-शरीर रूपी बंधन के छूटने के बाद ही मिलता है। इसके लिए वे दान पुण्य आदि अनेकानेक कृत्य करते भी देखे जाते हैं। किन्तु क्या वास्तविक मोक्ष इससे मिल जाता है? ऋषियों की दृष्टि से देखें तो यह एक ऐसी विधा है जिसका अंतर्चक्षुओं से साक्षात्कार कर समझना होगा।


Write Your Comments Here:


img

देव संस्कृति विश्वविद्यालय का ३३ वाँ ज्ञानदीक्षा समारोह

व्यक्तित्व में समाये देवत्व को जगाने का आह्वानविद्यार्थियों को शिक्षा एवं संस्कार द्वारा परमात्मा से जुड़ने और जोड़ने का कार्य देव संस्कृति विश्वविद्यालय द्वारा किया जा रहा है। - स्वामी विश्वेश्वरानन्द जीज्ञानार्जन का उद्देश्य है अपने व्यक्तित्व का परिष्कार।.....

img

.....

img

डॉ. पण्ड्या ने 251 कुण्डीय गायत्री महायज्ञ हेतु किया कलश पूजन

हरिद्वार 19 जुलाई।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में गायत्री परिवार प्रमुखद्वय श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या व श्रद्धेया शैलदीदी ने बड़ौदा (गुजरात) में 1994 में हुए अश्वमेध गायत्री महायज्ञ के रजत जयंती महोत्सव हेतु कलश पूजन किया। यह महोत्सव 1 से 3 जनवरी.....