Published on 2018-02-21
img

आदान-प्रदान की परम्परा

देव संस्कृति विश्वविद्यालय के शिक्षक भी कंजिमेडर्ज वेन्की विश्वविद्यालय का भ्रमण कर चुके हैं। वर्तमान में इरेस्मसपस के अंतर्गत विश्वविद्यालय की दो छात्राएँ वहाँ शैक्षणिक आदान- प्रदान की प्रक्रिया में हिस्सा ले रही हैं। इन छात्राओं ने बेहतर तालमेल, संवाद क्षमता, एकाग्रता, प्रस्तुतिकरण इत्यादि के माध्यम से वे अपनी गहरी छाप छोड़ रही हैं।

देव संस्कृति विश्वविद्यालय में शोध समागम आयोजित हुआ। पोलेन्ड के कंजिमेडर्ज वेन्की विश्वविद्यालय के वाइस रेक्टर प्रो़ मोरक मैको भी ३ सदस्यीय दल के साथ इसमें भाग लेने आये। देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ़ चिन्मय पण्ड्याजी ने विदेशी मेहमानों का भावभरा स्वागत करते हुए समागम में बताया कि शोध विद्यार्जन की एक महत्त्वपूर्ण प्रक्रिया है, जिससे जीवन के हर आयाम में नए रास्ते खुलते हैं। प्राचीन परम्पराओं और विचारों की उत्कृष्टता को वर्तमान के साँचे में ढालकर उन्हें उपयोगी बनाये रखने के लिए यह परम आवश्यक है।

दूसरे चरण में प्रो़ मोरक मैको ने अपने विवि के संगीत, मानविकी, पर्यटन, गणित, मनोविज्ञान, स्वास्थ्य, खेल, कम्प्यूटर आदि कार्यक्रमों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इनमें देव संस्कृति विश्वविद्यालय के साथ मिलकर शोधकार्य करने से अन्य बहुत से क्षेत्रों में विकास के मार्ग खुलेंगे। उन्होंने देसंविवि के योग एवं स्वास्थ्य कार्यक्रमों को भी खूब सराहा। प्रो़ अनीला जेसिंस्का ने भी अपने विश्वविद्यालय के उद्देश्यों का परिचय दिया।

इस कार्यक्रम में सभी विभागों के विभागाध्यक्ष, संकायाध्यक्षों के साथ- साथ शिक्षकगण भी उपस्थित थे। उनके द्वारा किये गये स्वागत- सत्कार से विदेशी मेहमान बहुत प्रभावित हुए।


Write Your Comments Here:


img

anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री मंत्र और गायत्री माँ के चम्त्कार् के बारे मैं बताया

मैं यशवीन् मैंने आज राजस्थान के barmer के बालोतरा मैं anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री माँ के बारे मैं बच्चों को जागरूक किया और वेद माता के कुछ बातें बताई और महा मंत्र गायत्री का जाप कराया जिसे आने वाले.....

img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....