Published on 2018-02-23

न्यूजर्सी। यूएसए

गायत्री चेतना केन्द्र न्यूजर्सी पर सैकड़ों नैष्ठिक कार्यकर्त्ताओं की वासंती उमंगें वसंत पंचमी के पावन अवसर पर अपनी गुरुसत्ता के श्रीचरणों में समर्पित हुर्इं। पावन गुरुसत्ता के बोध दिवस पर आयोजित कार्यक्रमों ने उनमें अपनी ऊर्जा, भाव संवेदना, समय, संसाधनों को जगहितार्थ किये गये उनके युग परिवर्तन के संकल्प को पूरा करने का उत्साह जगाया।

केन्द्र पर रविवार, २१ जनवरी को वसंत पर्व बड़ी श्रद्धा और उल्लास के साथ मनाया गया। कार्यक्रम का संचालन शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री रमेश तिवारी ने किया। आरंभ में स्थानीय बाल संस्कार शाला के ५ से १३ वर्ष के नन्हे विद्यार्थियों द्वारा प्रस्तुत प्रज्ञागीतों ने सभी को भक्तिभाव से भर दिया। शांतिकुंज प्रतिनिधि ने अपने संदेश में परम पूज्य गुरुदेव के प्रेम और जीवन लक्ष्य की अनेक मार्मिक घटनाएँ सुनार्इं। अवसर की महानता को पहचानकर जीवन धन्य बनाने की प्रेरणा दी।

वसंत पंचमी का यह कार्यक्रम दीपयज्ञ के साथ समन्न हुआ। सभी ने देव दक्षिणा स्वरूप अपने आपको बदलकर समाज के समक्ष एक आदर्श प्रस्तुत करने के संकल्प लिये। गुरुसत्ता का संदेश हर युवा तक पहुँचाने का निर्णय लिया।


Write Your Comments Here:


img

देसंविवि भूमिका एवं राम खिलाड़ी की सर्वश्रेष्ठ पेपर प्रस्तुति

नेपाल के अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में सम्मानित हुए विद्यार्थीत्रभुवन विश्वविद्यालय, काठमाण्डू (नेपाल) में ‘‘ग्लोबल इनिशियेटिव इन एग्रीकल्चरल एण्ड एप्लाईड साइंसेज फॉर इको फ्रेंडली इन्वायरमेंट’’ पर एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन हुआ। इसमें देव संस्कृति विश्वविद्यालय के मेडिसिन प्लान्ट विभाग के विद्यार्थी भूमिका वार्ष्णेय.....

img

गायत्री परिवार से प्रभावित हुए मॉरिशस के राष्ट्रपति

इन दिनों मॉरिशस में सक्रिय शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधि श्री शांतिलाल पटेल एवं नागमणि शर्मा की मॉरिशस के राष्ट्रपति महामहिम परमासिवम पिल्लै व्यापूरी से उनके ली रिड्यूट स्थित आवास स्टेट हाउस में हुई। इस अवसर पर शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधियों ने राष्ट्रपति महोदय को.....

img

देव संस्कृति विश्वविद्यालय की अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठा में जुड़ा नया अध्याय

देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी 24 जून को कुचिंग में थे। वहाँ दो प्रमुख विश्वविद्यालयों के प्रमुख अधिकारियों के साथ उनकी चर्चा हुई। दोनों ही देव संस्कृति विवि. के उदात्त दृष्टिकोण और अद्वितीय शिक्षा योजनाओं से.....