Published on 2018-03-13
img

४८८ लोगों ने गायत्री मंत्रदीक्षा ली

धुले। महाराष्ट्र
धुले में आयोजित १०८ कुण्डीय श्रद्धा संवर्धन गायत्री महायज्ञ एक ऐतिहासिक आयोजन था। देव संस्कृति विवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी ने क्षेत्रीय तरुणाई में राष्ट्र के नवनिर्माण के लिए अथाह उल्लास जगाया, उन्हें स्वयं का आदर्श प्रस्तुत करते हुए समाज को प्रगति की सच्ची राह दिखाने के लिए प्रेरित किया।

सद्विचारों से सजे २५ ट्रेक्टरों और झाँकियों से सजी विशाल शोभायात्रा ने पहले दिन ही यज्ञ की आशातीत सफलता के संकेत दे दिये थे। इस अवसर पर पारंपरिक वेशभूषा में २४०० कलशों के साथ दो कि.मी. की पैदल यात्रा और ५ कि.मी. की वाहन यात्रा निकली।

यह कार्यक्रम संभवत: इस वर्ष में महाराष्ट्र में कार्यक्रम शृंखला का विशालतम कार्यक्रम था। इसमें देवपूजन के दिन भी गायत्री यज्ञ की १० पारियाँ सम्पन्न हुर्इं, १० हजार से अधिक लोगों ने भाग लिया। कार्यक्रम में ४८८ दीक्षा, ८६ पुंसवन सहित अन्यान्य संस्कार बड़ी मात्रा में हुए। १११११ दीपों के साथ आयोजित दीपयज्ञ के अवसर पर यह कार्यक्रम एक महान आध्यात्मिक कुंभ प्रतीत होता रहा, जहाँ से हर श्रद्धालु अथाह आस्था, सत्प्रेरणा एवं सद्भावों का दिव्य प्रसाद संग लेकर लौटा।


Write Your Comments Here:


img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....

img

गर्भवती महिलाओं की हुई गोद भराई और पुंसवन संस्कार

*वाराणसी* । गर्भवती महिलाओं व भावी संतान को स्वस्थ व संस्कारवान बनाने के उद्देश्य से भारत विकास परिषद व *गायत्री शक्तिपीठ नगवां लंका वाराणसी* के सहयोग से पुंसवन संस्कार एवं गोद भराई कार्यक्रम संपन्न हुआ। बड़ी पियरी स्थित.....