Published on 2018-03-23
img

खण्डवा। मध्य प्रदेश
१२ से १६ जनवरी की तारीखों में खण्डवा में १०८ कुण्डीय यज्ञ का विशाल कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। इसके माध्यम से ५४० गाँवों में च्मातृ श्रद्धांजलि महापुरश्चरणज् के अंतर्गत नवचेतना जागरण के योजनाबद्ध प्रयास आरंभ हो गये।

ऐतिहासिक महायज्ञ का प्रयाज लगभग ४० दिन चला। १०८ शक्ति कलशों की स्थापना की गयी। १०८ प्राणवान कार्यकर्त्ताओं ने शक्ति कलशों के सान्निध्य में ५- ५ गाँवों में सामूहिक साधना एवं घर- घर जनसंपर्क अभियान चलाया। ५०,००० से अधिक घरों में देव स्थापना, साहित्य स्थापना, स्टिकर अभियान, सभी गाँवों में दीवार लेखन जैसे कार्यक्रम सम्पन्न हुए। परिणाम स्वरूप खण्डवा में आयोजित महायज्ञ में श्रद्धा का सैलाब उमड़ पड़ा। कार्यक्रम की कलश यात्रा में १२,००० ग्रामीणों ने भाग लिया, जिनमें से ११५० वनवासी अपनी परम्परागत वेशभूषा में थे।

मातृशक्ति श्रद्धांजलि महापुरश्चरण के अंतर्गतचलाये जा रहे हैं चरणबद्ध कार्यक्रम
महायज्ञ की पूर्णाहुति में समस्त कार्यकर्त्ताओं ने प्रयाज के सभी ५४० गाँवों में मातृशक्ति श्रद्धांजलि महापुरश्चरण के अनंतर्गत युगचेतना विस्तार योजनाबद्ध कार्यक्रम चलाने के संकल्प लिये हैं, जिनके केन्द्र १०८ गाँव होंगे। तद्नुसार१ मार्च से १ जुलाई २०१८ तक निम्नानुसार कार्यक्रम चल रहे हैं।
  • १८ से २५ मार्च तक १०८ गाँवों में सामूहिक नवरात्र साधना।
  • २६ मार्च से ११०० दीवार लेखन, स्टिकर अभियान, देव स्थापना एवं साहित्य स्थापना अभियान।
  • २४०० घरों में एक कुण्डीय यज्ञ एवं नियमित बलिवैश्वदेव यज्ञ।
  • १०८ बाल संस्कार शालाएँ।
  • १०८ शालाओं में पुस्तक मेले, संस्कृति मण्डलों का गठन एवं पुस्तकालयों की स्थापना।
  • सभी गाँवों में स्वास्थ्य शिविर, बच्चों के लिए कपड़े, शिक्षा सामग्री का वितरण एवं एनर्जी फूड वितरण की व्यवस्था।
  • गाँवों में गौमाता के लिए पेयजल के स्थान बनाना, नदियों की सफाई, वॉटर हार्वेस्टिंग योजना का क्रियान्वयन।
  • स्वावलम्बन प्रशिक्षण एवं कुटीर उद्योगों का शुभारंभ।
  • नशामुक्ति के लिए १ लाख पुस्तकों का वितरण एवं जगह- जगह रैलियाँ।
  • ग्रामीण स्तर पर कन्या कौशल शिविर, युवा सम्मेलन, किसान सम्मेलन, दम्पति शिविर, गोमाता विज्ञान का प्रदर्शन।
  • अखण्ड ज्योति, युग निर्माण योजना, प्रज्ञा अभियान पत्रिकाओं के सदस्य बनाने का अभियान।


Write Your Comments Here:


img

गुण, कर्म, स्वभाव का परिष्कार करने वाली विद्या को प्रोत्साहन मिले। श्रद्धेय डॉ. प्रणव जी

देव संस्कृति विश्वविद्यालय का 35वाँ ज्ञानदीक्षा समारोह 21 जुलाई 2019 को कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी की अध्यक्षता में.....

img

शिक्षण संस्थानों में परिचय के नाम पर उत्पीड़न नहीं, विद्यारंभ संस्कार होना चाहिए

देव संस्कृति विश्वविद्यालय के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री का संदेश   यह ज्ञानदीक्षा समारोह जीवन के.....

img

तीर्थनगरी हरिद्वार में पाँच कार्यक्रम हुए शान्तिकुञ्ज के वरिष्ठ प्रतिनिधियों ने दिये प्रभावशाली संदेश

हरिद्वार। उत्तराखंड तीर्थ नगरी हरिद्वार में श्री आर.डी. गौतम एवं उनके सहयोगियों के प्रयासों से पाँच स्थानों पर गुरुपूर्णिमा.....