Published on 2018-03-23

हरिद्वार २३ मार्च।
राजभवन देहरादून में राज्यपाल डॉ. के.के. पाल ने देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के समन्वयक डॉ. अरूणेश पाराशर एवं तीन स्वयंसेवियों को सम्मानित किया। यह सम्मान डॉ. पाराशर एवं उनकी टीम को राष्ट्रीय व अंतर राष्ट्रीय स्तर पर उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए मिला है।

राष्ट्रीय परेड से लौटे स्वयंसेवी कमलरानी एवं रितेश कुमार को भी परेड में विशिष्ट योगदान के लिए राज्यपाल डॉ. पाल ने प्रशस्ति पत्र एवं मेडल देकर सम्मानित किया। विशेष रूप से अंतर्राष्ट्रीय डेलीगेशन में फिलीस्तीन गयी प्राची अग्रवाल को भी राज्यपाल ने बधाई दी। जबकि डॉ. अरुणेश पाराशर को राष्ट्रीय सेवा योजना में लगातार दस वर्ष तक विभिन्न सेवा कार्यों में महत्त्वपूर्ण योगदान के लिये प्रदान किया गया।

इस अवसर पर राज्य राष्ट्रीय सेवायोजन अधिकारी डॉ. विनोद कुमार ने देसंविवि के विभिन्न जागरूकता कार्यों की जानकारी दी। कार्यक्रम में युवा कल्याण विभाग की निदेशक डॉ० विम्मी सचदेवा रामन भी उपस्थित थी। उन्होंने स्वयंसेवियों को शुभकामनाएँ दी। इसके साथ ही कार्यक्रम में यूकॉस्ट से जुड़े डॉ. प्रशांत सिंह भी उपस्थित थे।

सम्मान समारोह से लौटने के बाद एनएसएस विवि की टीम ने कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी से भेंटकर आशीर्वाद लिया। कुलपति श्री शरद पारधी, प्रतिकुलपति डॉ० चिन्मय पण्ड्याजी ने सभी स्वयंसेवियों को सामाजिक जागरूकता के कार्यक्रमों में बढ़- चढ़कर हिस्सा लेने एवं उत्तराखण्ड का नाम रोशन करने के लिए बधाई दी।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....