शांतिकुंज साधना सत्र में शामिल हुआ दिव्यांग विद्यार्थियों का दल

Published on 2018-03-26
img

प्रज्ञाचक्षु दिव्यांगों के लिए विशेष सत्र
भूटान के सीमावर्ती जयगाँव जिले के अलीपुर द्वार स्थित डुवार्स दिव्यांग संस्थान के प्रज्ञाचक्षु दिव्यांग विद्यार्थियों का एक दल शांतिकुंज के नौ दिवसीय संजीवनी साधना सत्र में शामिल हुआ। उल्लेखनीय है कि इस संस्थान का संचालन गायत्री परिवार के समर्पित स्वयंसेवक शांतिकुंज एवं देसंविवि से प्रशिक्षित परिजन प्रोमिला मिश्रा एवं रामप्रकाश मिश्र, प्रवक्ता उत्तर बंगाल विश्वविद्यालय करते हैं। उन्हीं के नेतृत्व में दिव्यांग विद्यार्थी आये और यहाँ के दिव्य वातावरण यज्ञ, योग, जप, ध्यान, संगीत, प्रवचन आदि कार्यक्रमों में भाग लेकर अभिभूत हो गये।

डुआर्स क्षेत्र के अनेकों विद्यार्थी पिछले डेढ़ दशक से शांतिकुंज आकर ऋषियुग्म की प्रेरणा से अपने जीवन को सँवार रहे हैं। ये विद्यार्थी नेपाल, भूटान, अमेरिका, यूरोप में भी देव संस्कृति का आलोक पहुँचा रहे हैं।

इसी प्रवास के समय श्री विश्वमाता सेवा आश्रम में देहरादून स्थित एन.आई.बी.एच. के सौजन्य से ब्रेल एवं बोलता पुस्तकालय की स्थापना हुई। श्री मिश्र ने बताया कि निकट भविष्य में ब्रेल प्रेस की स्थापना से गायत्री मंत्र लेखन, विचार सूक्ति परक स्टिकर्स प्रकाशित किये जायेंगे, जिससे देश- विदेश के विद्यार्थी परम पूज्य गुरुदेव के विचारों से लाभान्वित हो सकेंगे।

विद्यार्थियों का यह दल श्रद्धेया शैल जीजी, देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी से भी मिला, मार्गदर्शन- आशीर्वाद प्राप्त किया। उन्होंने अपनी संगीत कला का प्रदर्शन भी किया।

img

गंगा से भारत की पहचान : डॉ. पण्ड्या

गंगा सफाई में हजारों स्वयंसेवियों ने बहाया पसीनाहरिद्वार में सप्तऋषि क्षेत्र से जटवाडा पुल तक गंगा तटों की हुई वृहत सफाईहरिद्वार २२ अप्रैल।गंगा मैया के अवतरण दिवस के मौके पर गायत्री परिवार के करीब ढाई लाख स्वयंसेवक गोमुख से गंगासागर.....

img

जीवन यज्ञमय हो : डॉ. पण्ड्याजी

डॉ पण्ड्याजी ने विद्यार्थियों को बताया मानव जीवन की गरिमा का धर्महरिद्वार २० अप्रैल।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि मानव जीवन यज्ञमय होना चाहिए। यज्ञ अर्थात् दान, भावनाओं का दान, कर्म का दान आदि। जो कुछ.....