Published on 2018-03-26
img

प्रज्ञाचक्षु दिव्यांगों के लिए विशेष सत्र
भूटान के सीमावर्ती जयगाँव जिले के अलीपुर द्वार स्थित डुवार्स दिव्यांग संस्थान के प्रज्ञाचक्षु दिव्यांग विद्यार्थियों का एक दल शांतिकुंज के नौ दिवसीय संजीवनी साधना सत्र में शामिल हुआ। उल्लेखनीय है कि इस संस्थान का संचालन गायत्री परिवार के समर्पित स्वयंसेवक शांतिकुंज एवं देसंविवि से प्रशिक्षित परिजन प्रोमिला मिश्रा एवं रामप्रकाश मिश्र, प्रवक्ता उत्तर बंगाल विश्वविद्यालय करते हैं। उन्हीं के नेतृत्व में दिव्यांग विद्यार्थी आये और यहाँ के दिव्य वातावरण यज्ञ, योग, जप, ध्यान, संगीत, प्रवचन आदि कार्यक्रमों में भाग लेकर अभिभूत हो गये।

डुआर्स क्षेत्र के अनेकों विद्यार्थी पिछले डेढ़ दशक से शांतिकुंज आकर ऋषियुग्म की प्रेरणा से अपने जीवन को सँवार रहे हैं। ये विद्यार्थी नेपाल, भूटान, अमेरिका, यूरोप में भी देव संस्कृति का आलोक पहुँचा रहे हैं।

इसी प्रवास के समय श्री विश्वमाता सेवा आश्रम में देहरादून स्थित एन.आई.बी.एच. के सौजन्य से ब्रेल एवं बोलता पुस्तकालय की स्थापना हुई। श्री मिश्र ने बताया कि निकट भविष्य में ब्रेल प्रेस की स्थापना से गायत्री मंत्र लेखन, विचार सूक्ति परक स्टिकर्स प्रकाशित किये जायेंगे, जिससे देश- विदेश के विद्यार्थी परम पूज्य गुरुदेव के विचारों से लाभान्वित हो सकेंगे।

विद्यार्थियों का यह दल श्रद्धेया शैल जीजी, देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी से भी मिला, मार्गदर्शन- आशीर्वाद प्राप्त किया। उन्होंने अपनी संगीत कला का प्रदर्शन भी किया।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....