Published on 2018-04-01

पांच कुण्डीय गायत्री महायज्ञ
स्थान - अगरतेन , ताम्बरम, चेन्नै
तारीख-31/03/2018 - कलश यात्रा
01/04/2018-09.00 से हवन एवं शाम को दीप महायज्ञ

चेन्नै के युवा प्रज्ञा मंडल के प्रयास से चेन्नै के आस पास के गांव में गुरुदेव के विचार को फैलाने के लिये यज्ञ शृंखला चलाने का बीड़ा उठाया गया है,युवा मंडल के श्री निरंजन , चंदन, अतीस, राहुल के प्रयास से ताम्बरम के निकट के गांव अगरतेन मे स्थित श्री पोइचलेस्वर मन्दिर में पांच कुण्डीय गयत्री यज्ञ का प्रस्ताव रखा गया , भाइयो ने घर घर जाकर सभी को पम्पलेट देकर यज्ञ का निमंत्रण दिया गया, ताम्बरम शक्ति पीठ के सहयोग से सभी व्यवस्था बनाई गई , निरनजन भाई ने यज्ञ मंडप और देव मंच को बहुत ही सुंदर सजाया था, यज्ञ संचालन के लिये सुश्री स कसतूरी (अम्मा जी) की टोली को जिमेंदारी दी गई थी, रजनीकांत मिश्रा जी, राजेश, बिजय, अखिलेशजी, सन्तरजी
ने संगीत और कर्मकांड मे अम्मा जी का साथ दिया, पूरा कार्यक्रम तमिल भाषा मे सम्पन किया गया ,
लगभग 300 तमिल भाईयो ने यज्ञ में भाग लिया, सतीश जी, रमेशजी, आलोक जी , ओम शंकर जी ने गुरुदेव के साहित्य स्टाल सम्हाला था, पटेल जी, बिजय जी, ने भोजन की ब्यवस्था ले रखी थी, ताम्बरम महिला मंडल दिलीप जी की देखरेख में यज्ञ की जिम्मेदारी मे थे,
पहली बार यैसा प्रोग्राम देख कर स्थानीय तमिल भाषी बहुत प्रभाभित हुये और गुरुदेव के साहित्य लेते गये

दक्षिण भारत ज़ोन
शान्तिकुञ्ज, हरिद्वार


Write Your Comments Here:


img

11 जनवरी, देहरादून। उत्तराखंड ।

दिनांक 11 जनवरी 2020 की तारीख में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी देहरादून स्थित ओएनजीसी ऑडिटोरियम में उत्तराखंड यंग लीडर्स कॉन्क्लेव 2020 कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे जहां पर उन्होंने उत्तराखंड राज्य के विभिन्न.....

img

ज्ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....

img

ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....