Published on 2018-04-04

अण्डमान- निकोबार में होगा अश्वमेध गायत्री महायज्ञ
राष्ट्रपति भवन के पूर्व निदेशक कर रहे हैं नेतृत्व

हरिद्वार ४ अप्रैल।

अण्डमान निकोबार द्वीप में आगामी २०२० में अश्वमेध गायत्री महायज्ञ का आयोजन होगा। गायत्री परिवार के प्रमुखद्वय श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी व श्रद्धेया शैलदीदीजी ने इसकी घोषणा की। साथ ही अण्डमान निकोबार में रचनात्मक कार्यक्रमों को गति देने के उद्देश्य से एक नया उपजोन बनाने का निर्णय लिया गया।

इस अवसर पर गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने बताया कि शांतिकुंज टीम अण्डमान निकोबार द्वीप का परिव्रज्या करेगी और जन- जन में भारतीय संस्कृति के सूत्रों का प्रचार- प्रसार करेगी। अण्डमान निकोबार का केन्द्र पोर्ट ब्लेयर में होगा, जहाँ से टीम राज्य भर में रचनात्मक कार्यक्रमों को गति देने, युवाओं का मार्गदर्शन करने, भारतीय संस्कृति का प्रचार- प्रसार के साथ विभिन्न द्वीपों में बसे सुदूर अंचलों में कार्य करेगी। उन्होंने बताया कि इस केन्द्र की जिम्मेदारी राष्ट्रपति भवन से निदेशक के पद से सेवानिवृत्त हुए श्री रामसिंह यादव को सौंपी गयी है। उनके सहयोगी के रूप में श्री भैयालाल राठौर एवं श्रीमती सरोजदेवी कार्य करेंगे। प्रमुखद्वय ने अपने कई दशकों की परिव्रज्या के अनुभवों को साझा किया और टीम सदस्यों का मंगल तिलक कर विदाई दी।

विदाई के अवसर पर व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र, वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री वीरेश्वर उपाध्याय, श्री रामसहाय शुक्ल, श्री कालीचरण शर्मा, श्री केपी दुबे, श्री जमुना साहू आदि उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....