Published on 2018-04-04

डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी के नेतृत्व में पहुंची शांतिकुंज टीम
भारतीय परंपरा के अनुसार हुए विभिन्न संस्कार

हरिद्वार ३ अप्रैल।
पूर्वी अफ्रीका के देश युगाण्डा की राजधानी कम्पाला में १०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ का आयोजन हुआ। इसमें युगाण्डावासियों ने बढ़- चढ़कर भागीदारी कर समाज के विकास में चलाये जा रहे रचनात्मक कार्यक्रमों में हिस्सा लेने का संकल्प जताया है।

शांतिकुंज मीडिया विभाग से मिली जानकारी के अनुसार पूर्वी अफ्रीका के युगाण्डा में शांतिकुंज के तत्त्वावधान में १०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ का आयोजन हुआ। यहाँ के मूल निवासियों ने यज्ञायोजन में भागीदारी करते हुए भारतीय संस्कृति को अपनाने के लिए अपना कदम बढ़ाया है। प्रवासी भारतीयों के अलावा बड़ी संख्या में युगाण्डा के मूल निवासियों ने भी श्रद्धाभावना के साथ यज्ञ करने पहुँचे। अधिकतर युवा भारतीय वेशभूषा में नजर आये।

इस अवसर पर देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति व टीम प्रमुख डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी ने मानव जीवन की गरिमा पर विशेष व्याख्यान दिया। डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी ने कहा कि मानव जीवन कई जन्मों के सौभाग्य से मिलता है। इस जीवन का अपना लक्ष्य निर्धारित करें और संकल्प के साथ उस दिशा में आगे बढ़े। उन्होंने कहा कि गायत्री महामंत्र का नियमित साधना से संकल्प शक्ति सुदृढ़ होती है, जो लक्ष्य तक पहुंचने में सीढ़ी जैसा काम करता है। इस यज्ञायोजन में भारतीय परंपरा के अनुसार बड़ी संख्या में विभिन्न संस्कार सम्पन्न कराये गये, जिसमें अनेक युवा दम्पति और स्थानीय लोग भी शामिल रहे। शांतिकुंज से डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी के अलावा शांतिभाई पटेल, ओंकार पाटीदार, वसंत यादव व रामावतार पाटीदार की टोली पूर्वी अफ्रीका के दौरे पर पहुंची है।


Write Your Comments Here:


img

उत्तरी अमेरिका में बन रहा है मुनस्यारी जैसा एक दिव्य साधना केन्द्र

श्रद्धेय डॉ. प्रणव जी एवं डॉ. चिन्मय जी ने किया भूमिपूजनकैलीफोर्निया प्रांत में मारिपोसा काउण्टी स्थित यशोमाइट नेशनल पार्क के समीप अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा एक दिव्य साधना केन्द्र बनाया जा रहा है। श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी एवं.....

img

मिशन के लिए समर्पित साधक- नैष्ठिक कार्यकर्त्ताओं की सेवाओं को मिला सम्मान

माँरिशस में आयोजित ग्यारवें विश्व हिन्दी सम्मेलन में डॉ. रत्नाकर नराले को मिला विश्व हिन्दी सम्मान हिंदी, संस्कृत, भारतीय संगीत और भारतीय संगीत संस्कृति के विश्वव्यापी प्रसार के कार्य कर रहे हैं।मिशन के सक्रिय परिजन कनाडा वासी प्रवासी भारतीय डॉक्टर रत्नाकर.....

img

इंग्लैण्ड वासियों ने बड़ी श्रद्धा के साथ मनाई प.वं. माताजी के पदार्पण की रजत जयंती

डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी की उपस्थिति में लेस्टर में सम्पन्न हुआ भव्य समापन समारोह७ से १० अक्टूबर १९९३ इंग्लैण्ड वासियों के सौभाग्य एवं आनन्द तथा अखिल विश्व गायत्री परिवार के इतिहास के अविस्मरणीय दिन हैं। इन्हीं तिथियों में इंग्लैण्ड के.....