Published on 2018-04-05

भुबनेश्वर। ओडिशा
विज्ञान दिवस, २८ फरवरी के दिन दिव्य भारत युवा संघ छत्तीसगढ़ और दिया कटक ने मिलकर स्वामी विवेकानन्द स्कूल आॅफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नोलॉजी में वैज्ञानिक अध्यात्मवाद को प्रोत्साहित करने के लिए कई कार्यक्रम आयोजित किये। मुख्य वक्ता श्री युगल साहू ने वैज्ञानिक अन्वेषणों के प्रति बढ़ते युवाओं के आकर्षण की सराहना करते हुए जीवन के आध्यात्मिक विकास की आवश्यकता से उन्हें अवगत कराया। उन्होंने कहा कि मानवीय संयम, संतुलन, संतोष के अभाव में ही आज विज्ञान की अथाह प्रगति के बावजूद ग्लोबल वॉर्मिंग, प्रदूषण, आतंक, भ्रष्टाचार के असुर विकराल रूप लेते जा रहे हैं। संयम, संतोष, संवेदना, संतुलन साधनों से नहीं, साधना से ही संभव है। यह अध्यात्म मार्ग के अवलम्बन से ही मिलते हैं।

'विज्ञान एवं अध्यात्म का मुनष्य जीवन पर प्रभाव' विषय पर भाषण प्रतियोगिता, तात्कालिक भाषण एवं टेक्निकल क्विज़ हुए, जिनमें विद्यार्थियों ने बड़े उत्साह के साथ भाग लिया। विजेताओं को पुरस्कृत किया गया।

कार्यक्रम में ३०० छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। दिया, ओडिशा के श्री संतोष जेना, सत्यजीत, श्रीमती लता, सुश्री कुमुदिनी, तिलोत्तमा मुदुली, कॉलेज के प्राचार्य, सभी शिक्षकों ने सराहनीय योगदान दिया।

नन्हे बच्चों को नैतिकता का पाठ पढ़ाया
नारायणपुर। छत्तीसगढ़

गायत्री शक्तिपीठ नारायणपुर द्वारा शासकीय पोर्टा केबिन आवासीय विद्यालय, देवगाँव में ४ फरवरी को एक कार्यशाला आयोजित की गई। ५०० विद्यार्थियों ने इसका लाभ लिया।

अधीक्षक श्री ध्रुव ने दीप प्रज्वलन के साथ कार्यशाला का शुभारंभ किया। बच्चों के नैतिक, बौद्धिक, आध्यात्मिक उत्थान के अनेक प्रयोग हुए। अनेक व्यावहारिक बातें बताई गर्इं। उन्हें भारतीय संस्कृति, गायत्री परिवार द्वारा चलाई जा रही  बाल संस्कार शाला, स्वास्थ्य के लिए आवश्यक आसन, प्राणायाम आदि का परिचय कराया। अंत में सभी के उज्ज्वल भविष्य की कामना की गई।


Write Your Comments Here:


img

3 कुंडीय गायत्री महायज्ञ एवं संस्कार महोत्सव,ग्राम-बलौर,मुज़फ़्फ़रपुर

साउथ कोलकाता गायत्री परिवार के द्वारा चंदन सिंह,ग्राम-बलौर,थाना-कुढ़नी,मुज़फ़्फ़रपुर,बिहार के निवासी के घर सम्पन्न हुआ।यह क्षेत्र एकदम अपने मिशन के गतिविधि से बिल्कुल अछूता है।यहाँ के लोग गायत्री मंत्र नही जानते या सुने ही नही है।कोलकाता से यहाँ आकर गायत्री यज्ञ.....

img

shaktikalas poojan , Dipyagna

shaktikalas poojan our Dipyagna 8 december ko ozar pada gaav me Dharampur taluke mai valsad jille me sampann hua.......