Published on 2018-04-09
img

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हाईवे, स्कूल-कॉलेजों और धार्मिक स्थलों के आसपास शराब की दुकान नहीं खुलने देंगे। प्रदेश में अब कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं सोएगा। प्रत्येक व्यक्ति के लिए उसकी पात्रता के अनुसार राशन कार्ड दिया जाएगा।मुख्यमंत्री रविवार को गायत्री परिवार की ओर से रमाबाई आम्बेडकर मैदान में आयोजित ‘नशा मुक्त उत्तर प्रदेश संकल्प समारोह’ में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि नशा मुक्ति अभियान सर्वोत्तम अभियान है, क्योंकि इसके पालन से ही देश और प्रदेश आगे बढ़ सकता है।विगत वर्ष आबकारी नीति के तहत 19500 करोड़ रुपये राजस्व वसूली लक्ष्य निर्धारित किया गया था। लेकिन, हमारी सरकार ने स्पष्ट निर्देश दिया कि हाईवे और सार्वजनिक स्थलों के नजदीक शराब बिक्री की प्रवृत्ति को पनपने नहीं दिया जाएगा। हमने अवैध बूचड़खाने बंद करने का काम भी किया।योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान शुरू करके देश को आगे बढ़ाने का काम किया है। इसके तहत सिर्फ कूड़े-करकट की सफाई ही नहीं, बल्कि मन और शरीर की सफाई भी जरूरी है।उन्होंने कहा कि स्वस्थ और स्वावलंबी समाज को कोई भी गुलाम नहीं बना सकता। कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों से मुक्ति के लिए भी नशा मुक्ति जरूरी है। आज पॉलीथिन एक बड़ी समस्या बन गई है।मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने दृढ़ संकल्प लिया है कि किसी भी गांव या मोहल्ले में कोई व्यक्ति भूखा नहीं रहेगा। समय से खाद्यान्न की उपलब्धता और बेहतर इलाज की व्यवस्था पर सरकार विशेष ध्यान दे रही है। एक लाख शौचालाय प्रतिदिन बनाए जा रहे हैं, ताकि अक्टूबर 2019 तक प्रदेश खुले में शौच मुक्त हो सके। वर्ष 2022 तक हर गरीब को छत और बिजली कनेक्शन भी मुहैया करा देंगे।
https://www.amarujala.com/lucknow/alcohol-shop-will-not-be-open-near-public-utility


Write Your Comments Here:


img

11 जनवरी, देहरादून। उत्तराखंड ।

दिनांक 11 जनवरी 2020 की तारीख में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी देहरादून स्थित ओएनजीसी ऑडिटोरियम में उत्तराखंड यंग लीडर्स कॉन्क्लेव 2020 कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे जहां पर उन्होंने उत्तराखंड राज्य के विभिन्न.....

img

ज्ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....

img

ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....