Published on 2018-04-11
img

मुम्बई। महाराष्ट्र

दिया, मुम्बई ने अपने ‘प्रोजेक्ट दृष्टिकोण’ के अंतर्गत महाशिवरात्रि पर्व को प्रासंगिक बनाने और लोकश्रद्धा को सही दिशा देने के लिए अम्बरनाथ और बदलापुर के शिव मंदिरों पर पुस्तक प्रदर्शनियाँ लगायीं। समर्पित कार्यकर्त्ताओं को इनके माध्यम से संवाद और संपर्क का शानदार अवसर मिला। हजारों लोगों को गायत्री उपासना से जीवन सँवारने तथा तरह-तरह के व्यक्तिगत एवं सामाजिक दोष-दुर्गुणों को दूर करने के लिए संघबद्ध होने की प्रेरणा दी जा सकी।

अंबरनाथ की जीवट वाले युवा राजेश शेट्टी, शुचिता शेट्टी, श्रीमती अम्मानी शेट्टी, जगन्नाथ शेट्टी की टोली पिछले चार वर्षों से शिव मंदिर रोड़, स्वामी समर्थ चौक पर पुस्तक मेले लगा रही है। इस वर्ष अनेक संगठन-संस्थानों में अपने पुस्तकालयों को युगऋषि के ज्ञान एवं आशीर्वाद से समृद्ध करने का जोरदार उत्साह दिखाई दिया। अपने जीवन को सन्मार्ग की ओर बढ़ाने के आकांक्षी नये विचारशील लोग बुक स्टॉल की ओर आकर्षित होते रहे।

बदलापुर के शिव मंदिर पर वर्षों से पुस्तक स्टॉल लगाने वाले  श्री प्रदीप मिश्रा ने इस वर्ष भी श्रीमती जयश्री शिम्पी, अमित पाण्डेय, उमेश मिश्रा, संदीप मिश्रा के सहयोग से पुस्तक स्टॉल लगाया। प्रात: 5 बजे से रात 10 बजे तक लोगों की भीड़ बनी रही। हजारों लोगों तक ऋषि चिंतन पहुँचाने में सफलता मिली।


Write Your Comments Here:


img

11 जनवरी, देहरादून। उत्तराखंड ।

दिनांक 11 जनवरी 2020 की तारीख में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी देहरादून स्थित ओएनजीसी ऑडिटोरियम में उत्तराखंड यंग लीडर्स कॉन्क्लेव 2020 कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे जहां पर उन्होंने उत्तराखंड राज्य के विभिन्न.....

img

ज्ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....

img

ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....