संस्कृति के प्रचार के लिए लिथुआनिया ने देसंविवि से मिलाया हाथ

Published on 2018-04-12
img

 देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज का भारतीय संस्कृति को देश-विदेश में फैलाने के अभियान में एक कदम और आगे बढ़ा है। विगत दिनों लिथुआनिया सरकार की ओर से की गयी पहल पर देवसंस्कृति विश्वविद्यालय ने अपनी सहमति दे दी। इस आशय की जानकारी देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ.चिन्मय पण्ड्याजी ने आज यहाँ दी।

प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी  ने बताया कि कुछ समय पूर्व बाल्टिक राष्ट्रों में लिथुआनिया सरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा एक महत्त्वपूर्ण संस्तुति पत्र जारी किया था जिसके अनुसार भारत के देसंविवि के बाल्टिक संस्कृति एवं अध्ययन केंद्र को अधिकृत रूप से मान्यता प्रदान की गयी थी। इसके अंतर्गत लिथुआनिया सरकार द्वारा देसंविवि के चालीस विद्यार्थियों को लिथुआनिया में स्थित विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों में परस्पर सांस्कृतिक समानता संबंधी अध्ययन हेतु छात्रवृत्ति की मंजूरी प्रदान की गयी। इसके विधिवत कार्यान्वयन हेतु विल्नियस विश्वविद्यालय, लिथुआनिया व देसंविवि के मध्य संयुक्त अनुबंध संपन्न हुआ। उन्होंने बताया कि यह अनुबंध अंतर्राष्ट्रीय सहयोग व बाल्टिक अध्ययन के अंतर्राष्ट्रीयकरण हेतु लिथुअनिअन शैक्षणिक योजना की परियोजना के साथ ही दोनों देशों के कानून व अन्य नियमों के विस्तार को भी पूर्ण करने में अपना योगदान देगा।               

अवगत हो कि बाल्टिक संस्कृति व अध्ययन केंद्र, भारत और बाल्टिक देशों की सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए तैयार किया गया है। भारत में स्थापित एशिया के इस प्रथम केंद्र देसंविवि में संस्कृति के विभिन्न तत्व संबंधी शोध कार्य, प्रोजेक्ट कार्य, कार्यशाला आदि के माध्यम से सांस्कृतिक गतिविधियों व कार्यक्रमों के संबंध में नए-नए शोध हो रहे हैं।        

यहाँ बताते चलें कि कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी भारतीय संस्कृति के प्रचार के लिए अपना अमूल्य योगदान दे रहे हैं। वे पिछले कई दशकों से देश-विदेश के युवाओं में भारतीय संस्कृति के बीज बोने के लिए अथक परिश्रम भी कर रहे हैं।

img

गंगा से भारत की पहचान : डॉ. पण्ड्या

गंगा सफाई में हजारों स्वयंसेवियों ने बहाया पसीनाहरिद्वार में सप्तऋषि क्षेत्र से जटवाडा पुल तक गंगा तटों की हुई वृहत सफाईहरिद्वार २२ अप्रैल।गंगा मैया के अवतरण दिवस के मौके पर गायत्री परिवार के करीब ढाई लाख स्वयंसेवक गोमुख से गंगासागर.....

img

जीवन यज्ञमय हो : डॉ. पण्ड्याजी

डॉ पण्ड्याजी ने विद्यार्थियों को बताया मानव जीवन की गरिमा का धर्महरिद्वार २० अप्रैल।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि मानव जीवन यज्ञमय होना चाहिए। यज्ञ अर्थात् दान, भावनाओं का दान, कर्म का दान आदि। जो कुछ.....