जीवन यज्ञमय हो : डॉ. पण्ड्याजी

Published on 2018-04-20

डॉ पण्ड्याजी ने विद्यार्थियों को बताया मानव जीवन की गरिमा का धर्म

हरिद्वार २० अप्रैल।

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि मानव जीवन यज्ञमय होना चाहिए। यज्ञ अर्थात् दान, भावनाओं का दान, कर्म का दान आदि। जो कुछ समाज, पर्यावरण, समष्टि के निमित्त करते हैं, उसका भाव हमेशा दान की तरह होना चाहिए।

वे देसंविवि के मृत्युंजय सभागार में गीतामृत पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। कुलाधिपति जी ने कहा कि यज्ञमय जीवन का अर्थ, समर्पण तथा दान से है। मानव जीवन एक ऐसा जीवन है, जिसमें एक- दूसरे के सहयोग के बिना प्रसन्नता से रहना कठिन है। उन्होंने कहा कि भावनाओं, कर्म और समय का दान हम जितनी प्रबल भावनाओं से करते हैं, उतनी प्रबल शक्ति से हमें उसका पुण्य एवं लाभ मिलता है। जब अपनी प्रिय वस्तुओं का उपयोग विश्व कल्याण के लिए निःस्वार्थ भाव से करते हैं, तो उससे संतुष्ट हुए जीव, वनस्पतियाँ आदि भी मनुष्य के लिए अनुकूल परिस्थियाँ जुटाते हैं। जिससे वह आरोग्य, सुख- साधन, फल- फूल, धन- धान्य आदि विभिन्न प्रकार की वस्तुएँ को प्राप्त करता है और आनंदित होता है।
कुलाधिपति डॉ. पण्ड्याजी ने कहा कि मन में सबके लिए सद्भावनाएँ रखना, संयमपूर्ण रहना, दूसरों की भलाई के लिए प्रयत्नशील रहना, सत्प्रयोजनों के लिए अपनी प्रतिभा का उपयोग करना, भगवान का स्मरण करते रहना, अपने कर्तव्य पथ पर आरूढ़ रहना, अनुकूल- प्रतिकूल परिस्थितियों में विचलित न होना आदि नियमों का पालन करने से जीवन यज्ञमय बन जाता है।

श्रद्धेय डा. पण्ड्याजी ने कहा कि मनुष्य जीवन को सफल बना लेना ही सच्ची दूरदर्शिता और बुद्धिमता है और इस दिशा में कदम बढ़ाने का सबसे सुन्दर अवसर किशोरावस्था ही है, जहाँ भविष्य की आधारशिला रखी जाती है। उन्होंने कहा कि अच्छा जीवन जीने के लिए उसके नियमों को समझना आवश्यक है, जो उन्हें समझ लेता है, वही मानव जीवन का आनंद उठा पाता है। मनुष्य जीवन में जितनी भी कमियाँ होती हैं, वे सब उसके कर्मों और भावनाओं की वजह से होती हैं। अगर हम शुभ और पुण्य कार्य करते हैं, तो हम प्रेम के भागीदार बनते हैं, अन्यथा घृणा के, इसलिए हमें निरंतर अपने जीवन में अच्छे कर्म करने चाहिए। इस अवसर पर विवि के कुलपति श्री शरद पारधी, प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी सहित विभागाध्यक्ष, प्रोफेसर्स एवं विद्यार्थीगण उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

देव संस्कृति विश्वविद्यालय का ३३ वाँ ज्ञानदीक्षा समारोह

व्यक्तित्व में समाये देवत्व को जगाने का आह्वानविद्यार्थियों को शिक्षा एवं संस्कार द्वारा परमात्मा से जुड़ने और जोड़ने का कार्य देव संस्कृति विश्वविद्यालय द्वारा किया जा रहा है। - स्वामी विश्वेश्वरानन्द जीज्ञानार्जन का उद्देश्य है अपने व्यक्तित्व का परिष्कार।.....

img

.....

img

डॉ. पण्ड्या ने 251 कुण्डीय गायत्री महायज्ञ हेतु किया कलश पूजन

हरिद्वार 19 जुलाई।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में गायत्री परिवार प्रमुखद्वय श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या व श्रद्धेया शैलदीदी ने बड़ौदा (गुजरात) में 1994 में हुए अश्वमेध गायत्री महायज्ञ के रजत जयंती महोत्सव हेतु कलश पूजन किया। यह महोत्सव 1 से 3 जनवरी.....