Published on 2018-04-25

देसंविवि व शांतिकुंज के रचनात्मक कार्यक्रमों से हुए अभिभूत

हरिद्वार २५ अप्रैल।
उ.प्र. के सिविल डिफेन्स व सैनिक कल्याण मंत्री श्री अनिल राजभर अपने सहयोगियों के साथ मंगलवार को देर शाम शांतिकुंज पहुँचे। यहाँ उन्होंने देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के विभिन्न रचनात्मक कार्यक्रमों एवं युवाओं को पाठ्यक्रम के अलावा स्वावलंबी बनाने की दिशा में चलाये जा रहे स्वावलंबन कार्यशाला का अवलोकन किया।

वहीं मंत्री श्री राजभर ने देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी से भेंट परामर्श कर युवाओं के चहुुंमुखी विकास के लिए चलाये जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों से अवगत हुए। प्रतिकुलपति ने विवि व शांतिकुंज द्वारा संचालित हो रहे निर्मल गंगा जन अभियान, युवा जागरण शिविर सहित विभिन्न आंदोलनों की जानकारी दी। जन जागरण एवं राष्ट्रोत्थान के इस आंदोलन से अवगत हो मंत्री जी ने प्रसन्नता व्यक्त की। इस अवसर पर प्रतिकुलपति डॉ.चिन्मय पण्ड्याजी ने श्री राजभर जी को स्मृति चिह्न, युग साहित्य एवं देसंविवि के हस्तकरघा द्वारा निर्मित वस्तुएँ भेंट सम्मानित किया।

वहीं शांतिकुंज भ्रमण के दौरान उन्होंने बागवानी सहित विभिन्न प्रशिक्षण केन्द्रों का अवलोकन किया। युगऋषि के पावन समाधि में पुष्पांजलि अर्पित कर राज्य के विकास की प्रार्थना की। मंत्री जी ने आमजन की भाँति वंदनीया माताजी के भोजनालय में जमीन में बैठकर भोजन-प्रसाद लिया। इस दौरान शांतिकुंज के श्री गंगाधर चौधरी सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी आदि मौजूद रहे।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....