Published on 2018-05-07
img

धमतरी | घर-घर एक कुंडीय गायत्री महायज्ञ के तहत शहर के मराठापारा ईकाई में गायत्री परिवार ने एक कुंडीय गायत्री महायज्ञ का आयोजन किया। इस दौरान ज्योति रणसिंह के सुपुत्र के जन्मदिवस पर 32 दीप यज्ञ भी हुआ। कार्यक्रम समापन के बाद गायत्री परिजनों की गोष्ठी हुई, जिसमें गायत्री परिवारों के तीन महीने के कार्यक्रम की समीक्षा कर आगे की रणनीति तैयार की गई। पर्यावरण संरक्षण को लेकर जुलाई-अगस्त में पौधरोपण अभियान चलाकर चारों ब्लाॅकों में हजारों पौधों का रोपण करने का निर्णय लिया गया। गायत्री परिवार के जिला समन्वयक दिलीप नाग ने बताया कि जून-जुलाई में गायत्री परिवारों के 24 सदस्य एक साथ विभिन्न वार्डों में गायत्री महायज्ञ का आयोजन करेगा। साधना, मंत्र लेखन के लिए परिजनों ने समूह साधना का संकल्प भी लिया है। इस अवसर पर हर्षद मेहता, अंजना रणसिंह, शेखन साहू, नरेश साहू, बीरेंद्र सिन्हा, लक्ष्मण यादव, नारायण कौशिक, यशवंत रणसिंह, मोहनराव रणसिंह, विनोदराव रणसिंह, भारती रणसिंह, विजय बाई पवार, दुर्गा रणसिंह, दुर्गा जगताप, विद्या जगताप आदि उपस्थित थे। 3 जून को बच्चों के लिए निबंध, भाषण व रंगोली स्पर्धा : जिला समन्वयक नाग ने बताया कि गायत्री परिजनों के बच्चों के लिए विशेष कार्यक्रम 3 जून को रिसाईपारा गायत्री शक्तिपीठ में होगा। इसमें स्कूल, काॅलेज स्तरीय निबंध, गीत, भाषण, रंगोली प्रतियोगिता होगी। विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कार देकर सम्मानित भी किया जाएगा। मराठापारा में हुई गोष्ठी में गायत्री परिवार के परिजनों ने लिया निर्णय धमतरी. मराठापारा में आयोजित गोष्ठी में विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की। 13 मई को होगी जोन स्तरीय बैठक 13 मई को जोन स्तरीय त्रैमासिक बैठक सुबह 11 से दोपहर 3 बजे रायपुर के जोन प्रमुख की अध्यक्षता में होगी। इस बैठक में धमतरी, महासमुंद, बलौदाबाजार, गरियाबंद के विकासखंड समन्वयक शामिल होंगे, जिसमें पिछले माह में किए गए कार्यों की समीक्षा की जाएगी। साथ ही गायत्री परिवार द्वारा चलाए जा रहे अभियान में तेजी लाने को लेकर रूपरेखा बनाई जाएगी। 


Write Your Comments Here:



Warning: Unknown: write failed: No space left on device (28) in Unknown on line 0

Warning: Unknown: Failed to write session data (files). Please verify that the current setting of session.save_path is correct (/var/lib/php/sessions) in Unknown on line 0