प्राकृतिक जल स्रोतों का संरक्षण अभियान

Published on 2018-05-05

गायत्री परिवार, पुणे जल स्रोत संरक्षण एवं स्वच्छता अभियान। संत ज्ञानेश्वर महाराज के कर्मभूमि श्रीक्षेत्र आलंदी में प्राचीन 51 प्राकृतिक जल स्रोत जिनका उपयोग पहले पेय जल के लिए किया जाता था। इस समय सभी जलस्रोत मृतप्राय है। गायत्री परिवार पुणे उन सभी जल स्रोतों को पुनः जीवित करके उस जल का उपयोग पुनः पेय जल या अन्य उपयोग में लाने के लिए किया जायेगा। उसी अभियान का शुभारंभ आज 5 मई को हुआ। प्रथम प्राकृतिक जल स्रोत को पुनः जीवित किया गया। 🙏🏻🙏🏻

img

सभ्य समाज के निर्माण के लिए हो रहे कुछ आदर्श- अनुकरणीय कार्य

१०० वृक्ष- स्मारकनडियाद, खेड़ा। गुजरातराष्ट्रीय ख्याति के हृदयरोग विशेषज्ञ डॉ. अनिल झा गायत्री परिवार के कार्यकर्त्ताओं के लिए एक आदर्श हैं। अपने अत्यधिक व्यस्त कार्यक्रमों के बीच भी वे युग निर्माण आन्दोलनों को गति देने का कोई अवसर हाथ से.....

img

भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा- प्रतिभा प्रोत्साहन, पुरस्कार वितरण का क्रम

जैसलमेर। राजस्थान२९ मार्च को गायत्री शक्तिपीठ जैसलमेर पर भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा पुरस्कार वितरण समारोह सम्पन्न हुआ। मुख्य अतिथि श्रीमती कविता कैलाश खत्री, विशिष्ट अतिथि श्रीमती अंजना मेघवाल, जिला प्रमुख कानसिंह राजपुरोहित एवं सुभाष चंद्र तिवारी तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता.....


Write Your Comments Here: