पूर्वी अफ्रीका में शांतिकुंज की टोली का प्रवास

Published on 2018-05-05

यूगांडा, तंजानिया और केन्या में १०८ कुण्डीय यज्ञ हुए

शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री शांतिलाल पटेल, श्री ओंकार पाटीदार एवं श्री बसंत यादव की टोली ८ मार्च से १६ अप्रैल तक यूगांडा, तंजानिया और केन्या के प्रवास पर थी। इस प्रवास में तीनों देशों में अनेक छोटे- बड़े कार्यक्रम हुए। सुदूर देशों में रह रहे हजारों भारतीयों तक ऋषि चेतना का प्राण प्रवाह, श्रद्धेया जीजी, श्रद्धेय डॉ. साहब का स्नेह और मार्गदर्शन पहुँचा। ५०० से अधिक घरों में देव स्थापना और १०८ घरों में ज्ञानघट की स्थापना हुई। डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी की विशेष उपस्थिति में कुछ कार्यक्रम हुए, जिनके सामाचार गत अंक में प्रकाशित हो चुके हैं। प्रस्तुत हैं शेष समाचार
भावी सक्रियता के संकल्प उभरे

श्री राजू व्यास, श्री राजेश रावल, डॉ. हँसमुख रावल, श्री मनीष व सोना ठकरार आदि अग्रदूतों ने युगचेतना के विस्तार के लिए मिलकर विशेष प्रयास करने के संकल्प लिए।

  • नैरोबी में प्रज्ञा संस्थान की स्थापना
  • केन्या में अश्वमेध महायज्ञ
  • पूरे अफ्रीका में युग साहित्य का विस्तार
  • दार- ए में विशाल कार्यक्रम

दार- ए। तंजानिया
दार- ए के कुम्भारवाड़ा स्थित गायत्री केन्द्र पर दीप महायज्ञ हुआ, जिसमें लगभग १०० श्रद्धालुओं ने भाग लिया।

महाधर्म भक्त मण्डल में भजनोपदेशक शैली में मिशन के प्रेरक सूत्र श्रद्धालुओं तक पहुँचाए गए। उन्हें लोकमंगल के कार्यों में सक्रिय भागीदारी की प्रेरणा दी गई।

चंद्रिका बेन के आवास पर आयोजित भजन संध्या ने युवावर्ग को बहुत उत्साहित किया। उन्होंने मिशन की वेबसाइट में विशेष रुचि दिखाई।

बच्चों के बीच : हिन्दू मण्डल स्कूल में विद्यार्थियों को जीवन की सफलता के सूत्र दिए। पार्श्व संगीतयुक्त प्राणायाम, योगासन का अभ्यास अत्यंत आनन्ददायक था। उन्हें स्वास्थ्यवर्धक सूत्र भी बताये, नशामुक्त जीवन जीने की प्रेरणा दी गई। आयोजन में रक्षिता, प्रीति, रमा आदि बहनों का सराहनीय योगदान रहा।

लोहाना महाजन बाड़ी में अनेक मतों के अनुयाई, अनेक संगठनों के सदस्य प्रतिभाशाली बालकों का सम्मेलन हुआ। उन्हें गायत्री परिवार, देव संस्कृति विश्वविद्यालय का उद्देश्य और परिचय बताया गया। तद्नुसार जीवन लक्ष्य और उसकी प्राप्ति की प्रेरणा दी गई।

शांतिकुंज की टोली भारतीय समुदाय द्वारा संचालित दो शिक्षण संस्थानों में भी गई। वहाँ योगाभ्यास कराया, प्रेरक उद्बोधन दिए। अधिकांशत: स्थानीय अफ्रीकी बच्चों ने इन कार्यक्रमों का लाभ लिया।

अनाथालय में : ह्यूमन वेलफेयर ट्रस्ट, तंजानिया द्वारा संचालित चानिका आॅर्फनेज़ में जाकर अनाथ बच्चों का उत्साहवर्धन किया गया। उनमें खाद्य सामग्री बाँटी गई, आसन- प्राणायाम का अभ्यास कराया गया। बच्चों को स्वाहिली भाषा में छपे स्टीकर पढ़कर सुनाए गये, सत्संकल्प पाठ कराया गया, जिन्हें दोहराते हुए वे बहुत प्रसन्न दिखाई दिये।

भारतीय राजदूत से मुलाकात
दारेसलाम स्थित भारतीय दूतावास में राजदूत श्री संदीप आर्य शांतिकुंज प्रतिनिधियों से मिलकर बड़े प्रसन्न हुए। उल्लेखनीय है कि उनकी माता अखण्ड ज्योति पत्रिका की नियमित पाठक हैं। माननीय श्री आर्य ने वृक्षारापेण कराया, उन्हें युगसाहित्य भेंट कर टोली ने सम्मानित किया।

१०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ
शांतिकुंज की टोली के तंजानिया, केन्या प्रवास का अंतिम कार्यक्रम दार- ए के लक्ष्मीनारायण मंदिर में आयोजित १०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ के साथ हुआ। भारतीय राजदूत श्री संदीप आर्य महायज्ञ के मुख्य अतिथि थे। मुसलाधार बरसात के बावजूद भी श्रद्धालुओं के उत्साह में लेशमात्र भी कमी नहीं थी।

इससे पूर्व लक्ष्मीनारायण मंदिर में ही भजनोपदेश शैली में भजन संध्या का एक शानदार कार्यक्रम शांतिकुंज प्रतिनिधियों द्वारा सम्पन्न कराया गया। इसके माध्यम से मानवीय एकता, शुचिता, समता, ममता का संदेश लोगों के मन को छू लेने वाला था।

विद्यार्थियों ने कई सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये, नाटिकाओं का मंचन किया। टोली ने उन बच्चों को प्रशस्तिपत्र और उपहार प्रदान कर सम्मानित किया।
शांतिकुंज प्रतिनिधि झांझीबार द्वीप के एक अस्पताल में भी गए। वहाँ चल रहे सेवाकार्यों की सराहना की एवं युग साहित्य प्रदान कर संचालकों का उत्साहवर्धन किया।

म्वांजा, तंजानिया
शांतिकुंज की टोली के म्वांजा पहुँचने पर चंदाबेन एवं अनेक नैष्ठिक परिजनों ने भावभरा स्वागत किया। गायत्री प्रज्ञापीठ म्वांजा में दीपयज्ञ हुआ। हिन्दू मंदिर में संगीत प्रवचन का कार्यक्रम हुआ। म्वांजा के लेक इंग्लिश मीडियम प्री एण्ड प्रायमरी स्कूल में टोली पहुँची। वहाँ भारतीय संस्कृति का अध्ययन करने वाले युवाओं की आध्यात्मिक जिज्ञासाओं का समाधान किया। वहाँ वृक्षारोपण भी किया गया।

मोशी, तंजानिया
मोशी के सनातन मंदिर में संगीत- प्रवचन का कार्यक्रम रखा गया था। वहाँ शांतिकुंज का परिचयात्मक वीडियो दिखाया गया। इसे देखकर प्राय: सभी में शांतिकुंज के प्रत्यक्ष दर्शन करने की उमंग देखी गई। श्री मुकेश खम्बाइता, चेअरमेन हिन्दू यूनियन के प्रयासों से यह कार्यक्रम सम्पन्न हुआ।

अरूशा, तंजानिया

अरूशा के हिन्दू मन्दिर में श्री दीपेन बारमेड़ा, विनय सापरा, मनीष चावड़ा व हितेश नथवाणी की युवा टोली ने विशाल दीपयज्ञ का आयोजन किया। प्राय: २५० श्रद्धालुओं ने इसमें भाग लिया। आयोजक युवाओं का आध्यात्मिक उत्साह और की गई तैयारियाँ दर्शनीय थीं।

नैरोबी, केन्या

नैरोबी प्रवास पर परम पूज्य गुरुदेव का स्नेह प्राप्त करने वाले और उनके प्रेम के वशीभूत होकर जीवन भर मिशन का काम करने वाले अनेक कार्यकर्त्ताओं से शांतिकुंज प्रतिनिधियों की मुलाकात हुई। वे श्री अमृतभाई शाह, श्रीमती विद्या परिहार व श्री मदन परिहार, श्रीमती विजया व श्री पूरन टाँक, श्रीमती तरला पंडित, श्री हँसमुख रावल, श्री राजू व्यास, श्री हँसमुख दावड़ा, श्री केतन भट्ट के घर गये और उनकी सर्वतोमुखी प्रगति एवं निरंतर यश प्राप्ति की प्रार्थना पावन गुरुसत्ता की सूक्ष्म चेतना से की।

नैरोबी के फॉरेस्ट रोड स्थित प्रीमियम क्लब में १०८ कुण्डीय यज्ञ के साथ संगीत, प्रवचन का आयोजन हुआ। बड़ी संख्या में लोग और संस्थाओं का गायत्री परिवार के साथ परिचय हुआ। विश्वमानवता के कल्याण के लिए तमाम संकीर्णताओं को छोड़ने और विवेकपूर्वक लोकमंगल की गतिविधियों को प्रोत्साहित करने की प्रेरणा दी गई। श्री हँसमुखभाई रावल ने महायज्ञ के आयोजन में विशिष्ट योगदान प्रदान किया।

इससे पूर्व श्री निलेश पटेल के प्रयासों से रुइरु के टिक्का हिन्दू मंदिर में तथा पार्क लैण्ड स्थित पट्टनी ब्रदर्स में दीपयज्ञ के विशाल कार्यक्रम हुए। युवाओं में अध्यात्म के प्रति रुचि बढ़ते देखना उत्साहवर्धक था।

दार- ए के प्रवास से लौटने के बाद श्री शांतिलाल पटेल, श्री ओंकार पाटीदार एवं श्री बसंत यादव की टोली जस्टिस कल्पना रावल के स्वास्थ्य समाचार जानने और शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की प्रार्थना करने नैरोबी के शाह अस्पताल पहुँची। इस अवसर पर श्री हँसमुख रावल और पियूष जानी भी उनके साथ थे।


Write Your Comments Here:


img

अजरबेजान में योग और यज्ञ विज्ञान का विस्तार

योग दिवस पर देसंविवि प्रतिनिधि को मिला विशेष आमंत्रणबाकु। अजरबेजानअजरबेजान की राजधानी बाकु में चौथा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने के लिए देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि को विशेष रूप से आमंत्रित किया। शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री जयराम मोटलानी वहाँ पहुँचे और.....

img

मॉरिशस में गायत्री चेतना केन्द्र के लिए भूमिपूजन हुआ

लोंग माउण्टेन। मॉरिशसशांतिकुंज से मॉरिशस पहुँची श्री बालरूप शर्मा, श्री हेमलाल तत्त्वदर्शी एवं श्री नागमणि शर्मा की टोली ने लोंग माउंटेण्टन में गायत्री जयंती पर्व अपूर्व उल्लास के साथ मनाया। पर्व पूजन के साथ गायत्री- गंगा का महत्त्व बताने वाले.....

img

विश्व को १४ नोबल पुरस्कार विजेता देने वाले शिक्षा केन्द्र यूनिवर्सिटी आॅफ ज्यूरिच, स्विटज़रलैण्ड के साथ संबंध स्थापित हुए

भारतीय विद्या पर कार्यक्रम चलाने की है योजनादेव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति जी स्विटजरलैण्ड की राजधारी ज्यूरिच पहुँचे। वहाँ यूनिवर्सिटी आॅफ ज्यूरिच के अधिकारियों के साथ उनकी बैठक हुई, जिसमें भारतीय विद्या पर कार्यक्रम चलाने पर चर्चा हुई। यह वहाँ.....