डलास, अमेरिका में हुआ १०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ

Published on 2018-05-08
img

वैश्विक चुनौतियों का सामना करने के लिए संघबद्ध आध्यात्मिक पुरुषार्थ का आह्वान

१५ अप्रैल को हिन्दू मंदिर सोसाइटी, डलास में १०८ कुण्डीय महायज्ञ सम्पन्न हुआ। गायत्री परिवार के सदस्यों सहित डलास और आसपास के नगरों से आये सैकड़ों श्रद्धालुओं ने बड़े उत्साह के साथ भाग लिया। लॉस एंजिल्स निवासी वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री महेश भट्ट ने यज्ञ संचालन करते हुए वर्तमान वैश्विक संकट से उबरने के लिए एकजुट होकर एक ही दिशा में प्रयास करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि विश्व में एकता और शांति मिसाइल- बारूद से संभव नहीं, इसके लिए साधना के सामूहिक प्रयोगों से समाज के विचार और संस्कार बदलने होंगे।

शांतिकुंज से ह्यूस्टन पहुँचे परिव्राजक श्री ओमप्रकाश एवं श्रीमती लक्ष्मी जाधव ने श्रद्धालुओं को युगऋषि की युग निर्माण योजना और शांतिकुंज से चलाए जा रहे रचनात्मक अभियानों की जानकारी दी, श्रद्धालुओं से सक्रिय भागीदारी करने का आह्वान किया।

विचिता फॉल में दीपयज्ञ
१४ अप्रैल को विचिता फॉल के सभागार में दीपयज्ञ हुआ। शक्ति संवर्धन वर्ष पर चर्चा हुई। श्री ओमप्रकाश जाधव, श्री भरत टेलर, ध्रुव की टोली ने शक्ति सवंर्धन के लिए नियमित साधना एवं स्वाध्याय करने पर बल दिया।


Write Your Comments Here:


img

अजरबेजान में योग और यज्ञ विज्ञान का विस्तार

योग दिवस पर देसंविवि प्रतिनिधि को मिला विशेष आमंत्रणबाकु। अजरबेजानअजरबेजान की राजधानी बाकु में चौथा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने के लिए देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि को विशेष रूप से आमंत्रित किया। शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री जयराम मोटलानी वहाँ पहुँचे और.....

img

मॉरिशस में गायत्री चेतना केन्द्र के लिए भूमिपूजन हुआ

लोंग माउण्टेन। मॉरिशसशांतिकुंज से मॉरिशस पहुँची श्री बालरूप शर्मा, श्री हेमलाल तत्त्वदर्शी एवं श्री नागमणि शर्मा की टोली ने लोंग माउंटेण्टन में गायत्री जयंती पर्व अपूर्व उल्लास के साथ मनाया। पर्व पूजन के साथ गायत्री- गंगा का महत्त्व बताने वाले.....

img

विश्व को १४ नोबल पुरस्कार विजेता देने वाले शिक्षा केन्द्र यूनिवर्सिटी आॅफ ज्यूरिच, स्विटज़रलैण्ड के साथ संबंध स्थापित हुए

भारतीय विद्या पर कार्यक्रम चलाने की है योजनादेव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति जी स्विटजरलैण्ड की राजधारी ज्यूरिच पहुँचे। वहाँ यूनिवर्सिटी आॅफ ज्यूरिच के अधिकारियों के साथ उनकी बैठक हुई, जिसमें भारतीय विद्या पर कार्यक्रम चलाने पर चर्चा हुई। यह वहाँ.....