Published on 2018-05-08
img

वैश्विक चुनौतियों का सामना करने के लिए संघबद्ध आध्यात्मिक पुरुषार्थ का आह्वान

१५ अप्रैल को हिन्दू मंदिर सोसाइटी, डलास में १०८ कुण्डीय महायज्ञ सम्पन्न हुआ। गायत्री परिवार के सदस्यों सहित डलास और आसपास के नगरों से आये सैकड़ों श्रद्धालुओं ने बड़े उत्साह के साथ भाग लिया। लॉस एंजिल्स निवासी वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री महेश भट्ट ने यज्ञ संचालन करते हुए वर्तमान वैश्विक संकट से उबरने के लिए एकजुट होकर एक ही दिशा में प्रयास करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि विश्व में एकता और शांति मिसाइल- बारूद से संभव नहीं, इसके लिए साधना के सामूहिक प्रयोगों से समाज के विचार और संस्कार बदलने होंगे।

शांतिकुंज से ह्यूस्टन पहुँचे परिव्राजक श्री ओमप्रकाश एवं श्रीमती लक्ष्मी जाधव ने श्रद्धालुओं को युगऋषि की युग निर्माण योजना और शांतिकुंज से चलाए जा रहे रचनात्मक अभियानों की जानकारी दी, श्रद्धालुओं से सक्रिय भागीदारी करने का आह्वान किया।

विचिता फॉल में दीपयज्ञ
१४ अप्रैल को विचिता फॉल के सभागार में दीपयज्ञ हुआ। शक्ति संवर्धन वर्ष पर चर्चा हुई। श्री ओमप्रकाश जाधव, श्री भरत टेलर, ध्रुव की टोली ने शक्ति सवंर्धन के लिए नियमित साधना एवं स्वाध्याय करने पर बल दिया।


Write Your Comments Here:


img

देसंविवि भूमिका एवं राम खिलाड़ी की सर्वश्रेष्ठ पेपर प्रस्तुति

नेपाल के अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में सम्मानित हुए विद्यार्थीत्रभुवन विश्वविद्यालय, काठमाण्डू (नेपाल) में ‘‘ग्लोबल इनिशियेटिव इन एग्रीकल्चरल एण्ड एप्लाईड साइंसेज फॉर इको फ्रेंडली इन्वायरमेंट’’ पर एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन हुआ। इसमें देव संस्कृति विश्वविद्यालय के मेडिसिन प्लान्ट विभाग के विद्यार्थी भूमिका वार्ष्णेय.....

img

गायत्री परिवार से प्रभावित हुए मॉरिशस के राष्ट्रपति

इन दिनों मॉरिशस में सक्रिय शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधि श्री शांतिलाल पटेल एवं नागमणि शर्मा की मॉरिशस के राष्ट्रपति महामहिम परमासिवम पिल्लै व्यापूरी से उनके ली रिड्यूट स्थित आवास स्टेट हाउस में हुई। इस अवसर पर शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधियों ने राष्ट्रपति महोदय को.....

img

देव संस्कृति विश्वविद्यालय की अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठा में जुड़ा नया अध्याय

देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी 24 जून को कुचिंग में थे। वहाँ दो प्रमुख विश्वविद्यालयों के प्रमुख अधिकारियों के साथ उनकी चर्चा हुई। दोनों ही देव संस्कृति विवि. के उदात्त दृष्टिकोण और अद्वितीय शिक्षा योजनाओं से.....