शांतिकुंज पहुँचे विहिप के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष

Published on 2018-05-12

हरिद्वार, १२ मई।
विश्व हिन्दू परिषद के नवनिर्वाचित अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री विष्णु सदाशिव कोकजे गायत्री परिवार प्रमुखद्वय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी व शैलदीदीजी से भेंट परामर्श करने प्रातः ८.३० बजे गायत्री तीर्थ शांतिकुंज पहुँचे। यहाँ करीब चालीस मिनट तक चले भेंट में समाज के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की। दोनों संस्थाओं के अग्रजों ने भारतीय संस्कृति के विस्तार के लिए मिलकर काम करने की बात कही।

अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ पण्ड्याजी ने कहा कि पूज्य आचार्य जी संपूर्ण समाज के विकास की बात कहते रहे हैं। उन्होंने भारतीय संस्कृति को विश्वभर में फैलाने के लिए अनेक देशों की स्वयं यात्राएँ की और अपने साहित्य के माध्यम से जन- जन तक पहुंचाया। विहिप भी भारतीय संस्कृति को जन- जन तक पहुँचा रहा है। गायत्री परिवार व विहिप दोनों मिलकर इसे गति देने का काम रहा है। भविष्य में इसे और भी गति दी जायेगी।

इस अवसर पर न्यायमूर्ति श्री कोकजे ने कहा कि गायत्री परिवार जिस तरह संस्कृति को बचाये रखने के लिए कार्य कर रहा है, अनुपम है। हमारे समाज में वैचारिक क्रांति लाने के लिए गायत्री परिवार को योगदान बहुत बड़ा है। गायत्री परिवार के संस्थापक पूज्य पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी ने प्रचूर मात्रा में सत्साहित्य व यज्ञ के माध्यम से समाज में जो जनजागरण के कार्य को प्रारंभ किया है, यह हमारी संस्कृति को बचाये रखने में कारगर है। उन्होंने सामाजिक समरसता व कुरीतियों को मिटाने का जो सूत्र दिया है, वर्तमान समय में उसकी जरूरत है। पूर्व राज्यपाल श्री कोकजे ने कहा कि अपने हरिद्वार प्रवास के दौरान गायत्री परिवार प्रमुखद्वय से शुभेच्छा व शुभकामना लेने आया हूँ, जिससे कि हमारा मार्ग सुगम हो।

इस अवसर पर संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदीजी ने श्री कोकजे को मंगल तिलक लगाकर उनके उज्ज्वल भविष्य की मंगल कामना की। गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. पण्ड्याजी ने युगऋषि पूज्य आचार्य जी द्वारा रचित युगसाहित्य व शॉल ओढा़कर भेंटकर सम्मानित किया। इस दौरान विहिप के उच्चाधिकारी श्री दिनेश कुमार, श्री आलोक कुमार व दक्षिण भारत में गायत्री परिवार के समन्वयक श्री अश्वनी सुब्बाराव आदि उपस्थित रहे।

इससे पूर्व शांतिकुंज पहुँचने पर व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र, प्रज्ञा अभियान के संपादक श्री वीरेश्वर उपाध्याय, डॉ. बृजमोहन गौड़ आदि ने विहिप के अध्यक्ष श्री कोकजे का स्वागत किया।


Write Your Comments Here:


img

देव संस्कृति विश्वविद्यालय का ३३ वाँ ज्ञानदीक्षा समारोह

व्यक्तित्व में समाये देवत्व को जगाने का आह्वानविद्यार्थियों को शिक्षा एवं संस्कार द्वारा परमात्मा से जुड़ने और जोड़ने का कार्य देव संस्कृति विश्वविद्यालय द्वारा किया जा रहा है। - स्वामी विश्वेश्वरानन्द जीज्ञानार्जन का उद्देश्य है अपने व्यक्तित्व का परिष्कार।.....

img

.....

img

डॉ. पण्ड्या ने 251 कुण्डीय गायत्री महायज्ञ हेतु किया कलश पूजन

हरिद्वार 19 जुलाई।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में गायत्री परिवार प्रमुखद्वय श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या व श्रद्धेया शैलदीदी ने बड़ौदा (गुजरात) में 1994 में हुए अश्वमेध गायत्री महायज्ञ के रजत जयंती महोत्सव हेतु कलश पूजन किया। यह महोत्सव 1 से 3 जनवरी.....