पर्यावरण संरक्षण के लिए हुई प्रशंसनीय पहल

Published on 2018-05-12
img

एक डॉक्यूमेण्ट्री ने बदल दी लोगों की आदत

यूनाइटेड किंगडम
वर्षों बाद लंदन की कई कॉलोनियों में पहले की तरह सुबह- सुबह दूध की डिलीवरी करने वाले दिखने लगे हैं। अब लोग प्लास्टिक की बोतलों में नहीं, काँच की बोतलों में दूध लेना पसंद कर रहे हैं। बीबीसी की एक डॉक्यूमेण्ट्री 'ब्लू प्लेनेट द्वितीय' को देखने के बाद यह परिवर्तन आया है, जिसे डेविड एटनबोरो ने तैयार किया है। इसमें बताया गया है कि किस तरह प्लास्टिक का कचरा हमारे आसपास के वातावरण, शहर, देश और पूरी पृथ्वी को नुकसान पहुँचा रहा है।

इस डॉक्यूमेण्ट्री को देखने के बाद मिल्क एण्ड मोर नामक कम्पनी ने काँच की बोतलों में दूध की होम डिलीवरी फिर से शुरू कर दी। लोगों पर भी डॉक्यूमेण्ट्री का भरपूर प्रभाव है। पहले प्लास्टिक की खाली बोतलों का ढेर लग जाता था, अब लोग काँच की खाली बोतल रखकर भरी बोतल ले जाते हैं। प्रसन्नता की बात है कि परिवार वाले ही नहीं, पर्यावरण को बचाने के लिए अकेले रहने वाले युवा भी अपनी सुविधाओं को त्यागकर काँच की बोतलों में दूध लेना पसंद कर रहे हैं।


Write Your Comments Here:


img

अजरबेजान में योग और यज्ञ विज्ञान का विस्तार

योग दिवस पर देसंविवि प्रतिनिधि को मिला विशेष आमंत्रणबाकु। अजरबेजानअजरबेजान की राजधानी बाकु में चौथा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने के लिए देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि को विशेष रूप से आमंत्रित किया। शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री जयराम मोटलानी वहाँ पहुँचे और.....

img

मॉरिशस में गायत्री चेतना केन्द्र के लिए भूमिपूजन हुआ

लोंग माउण्टेन। मॉरिशसशांतिकुंज से मॉरिशस पहुँची श्री बालरूप शर्मा, श्री हेमलाल तत्त्वदर्शी एवं श्री नागमणि शर्मा की टोली ने लोंग माउंटेण्टन में गायत्री जयंती पर्व अपूर्व उल्लास के साथ मनाया। पर्व पूजन के साथ गायत्री- गंगा का महत्त्व बताने वाले.....

img

विश्व को १४ नोबल पुरस्कार विजेता देने वाले शिक्षा केन्द्र यूनिवर्सिटी आॅफ ज्यूरिच, स्विटज़रलैण्ड के साथ संबंध स्थापित हुए

भारतीय विद्या पर कार्यक्रम चलाने की है योजनादेव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति जी स्विटजरलैण्ड की राजधारी ज्यूरिच पहुँचे। वहाँ यूनिवर्सिटी आॅफ ज्यूरिच के अधिकारियों के साथ उनकी बैठक हुई, जिसमें भारतीय विद्या पर कार्यक्रम चलाने पर चर्चा हुई। यह वहाँ.....