Published on 2018-05-14

अखिल विश्व गायत्री परिवार के प्रमुख श्रद्धेय डॉ. प्रणव पंड्या जी एवं आदरणीया शैल जीजी जी ने सभी के व्यक्तिगत स्वास्थ्य, पारिवारिक परिस्थिति के समाचार लिए और सभी को गुरु कार्य को करते रहने से संचित और प्रारब्ध कर्म शोधित होते हैं। मार्गदर्शन दिया। आन्ध्र प्रदेश के नेल्लूर, प्रकाशम, ओंगेल, चिराला, गुण्टूर, तेनाली, मंगलगिरि विजयवाड़ा, ईस्ट गोदावरी, वेस्ट गोदावरी, विशाखापट्नम, विजयनगरम आदि और तेलंगाना राज्य के करीमनगर, जगत्याल, हैदराबाद, सिकन्द्राबाद, संघारेड्डी, वारंगल, मंचिरियाल, खम्माम आदि स्थानों से 350 तेलुगु भाषी परिजनों ने "संजीवनी साधना शिविर" में प्रतिदिन 30 माला गायत्री मंत्र जप करते हुए तीनों संध्यायों पर साधना और सत्संग का लाभ लिया।
तेलुगु राज्यों
तेलुगु राज्यों से आये वरिष्ठ कार्यकर्त्ताओं की निर्माणात्मक सङ्गोष्ठी शान्तिकुञ्ज के वरिष्ठ प्रतिनिधि डॉ. बृजमोहन गौड़ जी के मार्गदर्शन में सम्पन्न हुई। युगनिर्माण के कार्य को घर-घर पहुँचाने के लिये प्रतिदिन दो घण्टे का समयदान, तीन माला गायत्री उपासना नियमित, एक घण्टे स्वाध्याय करने वालों को प्रज्ञापरिजन कहते हैं।
अश्वमेध महायज्ञ हैदराबाद 2020 के लिए सवा लाख घरों में गायत्री और यज्ञ पहुँचाना है।


Write Your Comments Here:


img

ऑनलाइन पुंसवन संस्कार

दिनांक ०३.०८.२०२० को शिकागो, USA निवासी श्रीमती प्रज्ञा व् श्री अविनाश का पुंसवन संस्कार शांतिकुंज हरिद्वार द्वार          डा. गायत्री शर्मा व् उनकी टीम द्वारा कराया गया ......

img

प्राणायाम का वैज्ञानिक प्रभाव

दिनांक ३०.०७.२०२० को डाक्टर सी. पी. त्रिपाठी जी, ऋषिकेश  द्वारा डाक्टरों और गायत्री परिवार के कार्यकर्ताओं हेतु आयोजित वेबिनार  को संबोधित करती हुई डाक्टर गायत्री शर्मा, शांतिकुंज हरिद्वार |.....

img

प्राणायाम का वैज्ञानिक प्रभाव

दिनांक ३०.०७.२०२० को डाक्टर सी. पी. त्रिपाठी जी, ऋषिकेश द्वारा डाक्टरों और गायत्री परिवार के कार्यकर्ताओं हेतु आयोजित वेबिनार को संबोधित करती हुई डाक्टर गायत्री शर्मा, शांतिकुंज हरिद्वार.....