गायत्री विद्यापीठ शांतिकुंज के छात्र/छात्राओं ने देशभर में देवभूमि का नाम गौरवान्वित किया

Published on 2018-05-27

गायत्री विद्यापीठ शांतिकुंज के छात्र/छात्राओं ने देशभर में देवभूमि का नाम गौरवान्वित किया|

विद्यापीठ की तनूजा ने देशभर में तीसरा व उत्तराखंड में प्रथम स्थान प्राप्त किया है|


सावित्री पट्टैया ने हिन्दी, अंग्रेजी व पेंटिग में १०० अंक तथा इतिहास में ९१ तथा भूगोल में ९४ अंक लेकर विद्यापीठ की द्वितीय टॉपर रही। तनूजा व सावित्री पट्टैया न्यायिक सेवा में अपना भविष्य संवारना चाहती हैं। ममता जोशी ने ९१.४ प्रतिशत तथा श्रेयस ने ९०.८ प्रतिशत प्राप्त किया है।

विद्यापीठ के अभिभावकद्वय डॉ. प्रणव पण्ड्या व शैैलदीदी ने मेधावी बच्चों को अपनी शुभकामनाएँ दी। उन्होंने कहा कि विद्यापीठ विद्यार्थियों के चहुंमुखी विकास के लिए संकल्पित है। यहाँ पढ़ाई के साथ ही उनकी मानसिक व शारीरिक सुदृढ़ता के लिए विविध योगाभ्यास भी कराया जाता है जो मन की एकाग्रता व पढ़ाई की ओर रुचि पैदा करने में सहायक है। मेधावियों को पुरस्कृत भी किया जायेगा।

 गायत्री विद्यापीठ के प्रधानाचार्य श्री सीताराम सिन्हा ने बताया कि आज पूरे राज्य को गायत्री विद्यापीठ ने गौरवान्वित होने का अवसर दिया है। हम सब काफी प्रफुल्लित है कि विद्यापीठ की तनुजा ने देश भर में टॉप तीन में स्थान पाया है। साथ ही उन्हें उत्तराखण्ड का टॉपर होने का सौभाग्य भी मिला है। श्री सिन्हा ने बताया कि इस वर्ष गायत्री विद्यापीठ की सफलता प्रतिशत ९७.६ है। विद्यापीठ के चार बच्चों ने ९० से ऊपर सहित २१ विद्यार्थियों ने ८० प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किया है। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष भी गायत्री विद्यापीठ की छात्रा दिव्या यादव ने उत्तराखण्ड में प्रथम स्थान प्राप्त की थी।


Write Your Comments Here:


img

देसंविवि के मृत्युजंय सभागार में श्रद्धेय ने विद्यार्थियों को कराया ध्यान

अंतर जगत की आँख खोलने का नाम है ध्यान ः डॉ पण्ड्यादेसंविवि के मृत्युजंय सभागार में विद्यार्थियों को कराया ध्यानहरिद्वार 10 अगस्त।देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि अंतर जगत की आँख खोलने.....

img

देव संस्कृति विश्वविद्यालय का ३३ वाँ ज्ञानदीक्षा समारोह

व्यक्तित्व में समाये देवत्व को जगाने का आह्वानविद्यार्थियों को शिक्षा एवं संस्कार द्वारा परमात्मा से जुड़ने और जोड़ने का कार्य देव संस्कृति विश्वविद्यालय द्वारा किया जा रहा है। - स्वामी विश्वेश्वरानन्द जीज्ञानार्जन का उद्देश्य है अपने व्यक्तित्व का परिष्कार।.....

img

.....