शांतिकुंज के जन्मशताब्दी चिकित्सालय में हुआ रक्तदान शिविर

Published on 2018-06-07

जीवन बचाने जैसा पुण्य कार्य है रक्तदान : डॉ पण्ड्याजी
ढाई सौ युनिट रक्त हुए एकत्रित, हिमालयन हास्पिटल के ब्लड बैंक में कराये जमा


हरिद्वार, ६ जून।
शांतिकुंज के आचार्य श्रीराम शर्मा जन्मशताब्दी चिकित्सालय में रक्तदान शिविर का आयोजन हुआ। इसमें शांतिकुंज के अंतेःवासी कार्यकर्त्ता भाई- बहिन, विभिन्न प्रशिक्षण शिविर में आये गायत्री साधकों ने भागीदारी कर रक्तदान किया। इस दौरान ३५० लोगों ने अपना रक्तदान के लिए पंजीयन कराये। उत्साह, सेवा भाव के कारण कई अव्यस्क युवा भी पहुँचे, जिन्हें उम्र कम होने के कारण एवं कुछ अन्य लोगों को स्वास्थ्य संबंधी कारणों से रक्तदान करने से रोक दिये गये। शिविर में कुल २५० युनिट रक्त एकत्रित हुए, जिसे हिमालयन हास्पिटल जौलीग्रांट में जरूरतमंद लोगों की सहयोगार्थ जमा कराये।

अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि रक्तदान जीवन बचाने वाला पुण्य का कार्य है। रक्तदान से हार्ट अटैक, कोलेस्ट्रोल, एनीमिया, रक्त संबंधी जैसी कई बीमारियों से बचा जा सकता है। इससे पेनक्रियाज और लीवर में सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। नई रक्त कोशिकाओं का भी निर्माण होता है। उन्होंने कहा कि समय- समय पर रक्तदान करते रहना चाहिए।

रंजन, संतोष, उमेश, सुजीत आदि युवाओं ने पहली रक्तदान करने के बाद प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि हमने पहली बार रक्तदान किया है, हमें खुशी है कि हमारा यह रक्त किसी जरूरतमंद लोगों के जीवन बचाने में काम आयेगा। ओडिशा, मप्र, छत्तीसगढ़, उप्र, महाराष्ट्र, गुजरात, दिल्ली सहित विभिन्न प्रांतों से आये गायत्री साधकों ने भी रक्तदान किया। इस अवसर पर हिमालयन हास्पिटल, जौलीग्रांट की डॉ. उर्वी, डॉ. दीपिका, डॉ. गरिमा, गौरव रावत, रोबीन, पंकज, कविता आदि की टीम शांतिकुंज पहुँची थी। शिविर का शुभारंभ व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र, डॉ. मंजू चोपदार, डॉ. गायत्री शर्मा, राकेश जायसवाल ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलन कर किया।


Write Your Comments Here:


img

देसंविवि के मृत्युजंय सभागार में श्रद्धेय ने विद्यार्थियों को कराया ध्यान

अंतर जगत की आँख खोलने का नाम है ध्यान ः डॉ पण्ड्यादेसंविवि के मृत्युजंय सभागार में विद्यार्थियों को कराया ध्यानहरिद्वार 10 अगस्त।देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि अंतर जगत की आँख खोलने.....

img

देव संस्कृति विश्वविद्यालय का ३३ वाँ ज्ञानदीक्षा समारोह

व्यक्तित्व में समाये देवत्व को जगाने का आह्वानविद्यार्थियों को शिक्षा एवं संस्कार द्वारा परमात्मा से जुड़ने और जोड़ने का कार्य देव संस्कृति विश्वविद्यालय द्वारा किया जा रहा है। - स्वामी विश्वेश्वरानन्द जीज्ञानार्जन का उद्देश्य है अपने व्यक्तित्व का परिष्कार।.....

img

.....