Published on 2018-06-16

बदायूं (उत्तर प्रदेश):-
अखिल विश्व गायत्री परिवार की ओर से विश्वामित्र आंचल के कछला गंगा तट पर हर हर गंगे, निर्मल गंगे के साथ गायत्री परिजन साफ-सफाई में जुटे। इसके बाद मां भागीरथी का पूजन और महाआरती की। युवा शक्ति ने मां गंगा को निर्मल बनाने का लिया संकल्प।

जय जय गंगे माई की, हिम्मत करो सफाई की और गंगा को माता माना है, स्वच्छ रखेंगे यह ठाना है के जयघोष से गंगा तट गुंजायमान रहे। मां गंगा को निर्मल बनाने के लिए बासी फूल, साबुन, शैंपू, प्लास्टर आॅफ पेरिस से बनी मूर्तियों का भू विसर्जन करें। पुरानी किताबों और घर का कचरा डालकर गंगा मां के आंचल को गंदा न करें। जिस देश में सत्य सिद्ध करने के लिए गंगा की सौगंध ली जाती हो। आज जीवनदायिनी को स्वार्थ और अंधे विकास की खातिर मरणासन्न में लाकर छोड़ दिया है। उसका जल पीने और स्नान करने योग्य भी नहीं बचा है। भागीरथ ने कठोर तपकर मां गंगा को स्वर्ग से धरती पर लाए। मोक्षदायिनी गंगा ने पापों का नाश कर सभी का उद्धार किया। मां गंगा जल धारा नहीं, जीवन धारा है।


Write Your Comments Here:


img

बेनीपट्टी मे बाल संस्कार शाला

बिहार के मधुबनी जिले के बेनीपट्टी मे बाल संस्कार शाला चलाया जा रहा हैl यहाँ पर शिक्षा के साथ संस्कार भी बच्चों को दिया जाता हैl बाल संस्कार शाला मे बच्चों को जीवन जीने की कला सिखाई जाती है.....