Published on 2018-06-22
img

शान्तिकुंज में तीन दिवसीय गायत्री जयंती महापर्व

हरिद्वार २० जून।
गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिन चलने वाले गायत्री जयंती महापर्व का शुभारंभ बुधवार को हुआ| प्रथम दिन के पहले सत्र में गौ की महिमा का गान किया गया, तो वहीं दूसरे सत्र में गंगा की महिमा पर विशेष सत्संग हुआ। इस अवसर पर शांतिकुंज रचनात्मक प्रकोष्ठ के समन्यवक श्री केदार प्रसाद दुबे ने च्भारत की पहचान है गंगाज् विषय पर व्याख्यान दिया।

सायंकालीन सभा में बौद्ध धर्म में मानवता पर देसंविवि के कुलसचिव श्री संदीप कुमार ने, ईसाई धर्म में मानवता पर इंजीनियर श्री कालीचरण शर्मा ने, इस्लाम धर्म में मानवता पर श्री अरविन्द कुमार ने, हिन्दु धर्म में मानवता पर श्री केपी दुबे ने विस्तृत जानकारी दी। वहीं इस सभा की अध्यक्षता श्री वीरेश्वर उपाध्याय जी ने की। श्री उपाध्याय ने वर्तमान समय की मानवता को परिभाषित करते हुए इसे संस्कारित और सुदृढ़ बनाने पर बल दिया। कार्यक्रम का संचालन अरुण खण्डागले ने किया।

इससे पूर्व गायत्री जयंती महापर्व की शुरुआत माँ गायत्री की विशेष आरती एवं ध्यान साधना से हुआ। देश-विदेश से आये हजारों साधकों ने हवन कर वसुधैव कुटुंबकम् की भावना से समृद्ध राष्ट्र की कामना की।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....