Published on 2018-06-22

शांतिकुंज में कई हजार ने की भागीदारी

हरिद्वार, २१ जून।


अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में योग कार्यक्रम आयोजित हुआ। इस मौके पर देश-विदेश से आये साधक, शांतिकुंज के अंतेवासी भाई-बहिन, देवसंस्कृति विश्वविद्यालय परिवार, स्काउट गाइड, गायत्री विद्यापीठ आदि ने योगाभ्यास किया।

                कार्यक्रम की शुरुआत सुमधुर संगीत से हुआ। पश्चात अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मानकों पर आधारित योगासनों के विभिन्न आसनों का अभ्यास कराया गया। इस अवसर पर अपने संदेश में गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि भागदौड़ भरी जिंदगी में बीमारियाँ भी अपना पैर पसार रही हैं, इन सबके बीच मनुष्य को यदि स्वस्थ रहना है, तो योग, आसन, प्राणायाम को अपने जीवन में स्थान देना होगा। योग मात्र शारीरिक क्रिया नहीं है, वरन् यह एक सम्पूर्ण जीवन शैली को सुधारने का नाम भी है। आज सुविधा के साथ रोग भी बढ़ रहे हैं, इन रोगों से बचने के लिए नियमित रूप से योगाभ्यास करने चाहिए। योग से फिटनेस, वैराग्य (नकारात्मक ता से) तथा ईश्वर का प्राणिधान भी होता है। योग साधक के चित्तवृति भी निरोग रहती है। शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री वीरेश्वर उपाध्याय ने कहा कि जीवन योगमय हो तो सुखमय होता है। योग मनुष्य को प्रकाशित करता है।

                शांतिकुंज मीडिया विभाग ने बताया कि आयुष मंत्रालय,भारत सरकार की ओर से देसंविवि के योगाचार्य डॉ. सुरेश वर्णवाल, डॉ. राकेश शर्मा, डॉ. अजय आदि ने अमेरिका में योगाभ्यास कराया, तो वहीं गायत्री परिवार के योगाचार्यों व प्रतिनिधियों ने दक्षिण अफ्रीका, कनाडा, रूस, अमेरिका, इंग्लैण्ड, आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैण्ड, फीजी, मॉरिशस, थाइलैण्ड, सिंगापुर, मलेशिया, बाकू, अफगानिस्तान, मेडागस्कर, तंजानिया सहित आदि देशों के विभिन्न शहरों में भी अंतर्राष्ट्रीय मानकों पर आधारित योगाभ्यास कराया। साथ ही शांतिकुंज से तीन हजार से अधिक योग साधक देहरादून में आयोजित अंतरराष्ट्रीय योगाभ्यास में भागीदारी की।

                शांतिकुंज में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र, देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या, श्री केसरी कपिल जी, डॉ. ओपी शर्मा, श्री कालीचरण शर्मा आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....