यूनेस्को और राष्ट्रमण्डल में बढ़ता देव संस्कृति विश्वविद्यालय का प्रभाव

Published on 2018-06-23
img

अखिल विश्व गायत्री परिवार के प्रतिनिधि एवं देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति मई २०१८ में यूके और बेल्जियम के प्रवास पर थे। उनका यह प्रवास युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी के संकल्पों के अनुरूप देव संस्कृति की गौरव- गरिमा को वैश्विक विस्तार करने वाला था। अनेक प्रतिष्ठित संस्थानों के साथ उनकी वार्ताएँ हुर्इं, यूनेस्को और कॉमनवेल्थ जैसे विश्व संगठनों में देव संस्कृति विश्वविद्यालय एवं गायत्री परिवार की साझेदारी बढ़ी।

यूनेस्को ने देव संस्कृति विश्वविद्यालय को चेअर पोज़िशन प्रदान की
अनेक विषयों पर साझा कार्यक्रम चलाने के लिए हुई वार्ता

यूनेस्को के निदेशक के साथ देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी की वार्ता हुई। यूनेस्को द्वारा पोलैण्ड के ओपेले विश्वविद्यालय के साथ देव संस्कृति विश्वविद्यालय को संयुक्त चेयरशिप प्रदान की गई।

निदेशक महाशय के साथ 'सांस्कृतिक विरासत अथवा अंतर सांस्कृतिक पर्यटन' के क्षेत्र में यूनेस्को और देव संस्कृति विश्वविद्यालय के एक साझा कार्यक्रम को आयोजित करने पर चर्चा भी हुई। 'यूनेस्को की युवा परियोजना- MED' भी दोनों के बीच चर्चा का प्रमुख विषय रहा। इस प्रोजेक्ट के माध्यम से देव संस्कृति विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को यूनेस्को के सद्भावना राजदूत के रूप में नियुक्त किया जा सकेगा।

बेल्जियम प्रवास
यूरोपियन इंस्टीट्यूट आॅफ एशियन स्टडीज़ के साथ समन्वय हुआ
बेल्जियम में अनेक विश्वविद्यालयों के साथ बैठकें हुर्इं। इनमें से यूरोपियन इंस्टीट्यूट आॅफ एशियन स्टडीज़ के साथ हुई चर्चा विशेष उपलब्धिपूर्ण रही। यह एशिया और संबंधित मामलों पर विशिष्ट रूप से अध्ययन करने वाला, यूरोपीय यूनियन से अनुदान प्राप्त शिक्षा संस्थान है। डॉ. चिन्मय जी की वहाँ के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) से मुलाकात हुई। वे यूरोपीय शिक्षा जगत के एक अत्यंत प्रभावशाली व्यक्ति हैं। वे भारतीय शिक्षण संस्थानों को अपने अनुदान प्रदान करते हुए अध्ययन के साझा कार्यक्रम चलाने के लिए बहुत दिनों से प्रयत्नशील थे। अत: देव संस्कृति विश्वविद्यालय की पहल से वे बहुत खुश नज़र आये।

डॉ. चिन्मय जी ने उन्हें देव संस्कृति विश्वविद्यालय की प्रकृति, विचारधारा और विश्व में नैतिकता एवं शांति संवर्धन के लिए किये जा रहे प्रयासों की जानकारी दी। परम पूज्य गुरुदेव के विचार और वैज्ञानिक अध्यात्मवाद की अवधारणा ने उन्हें बहुत प्रभावित किया। परस्पर मिलकर कार्य करने के लिए वे उत्साहित हुए। देव संस्कृति के वैश्विक विस्तार में एक नये अध्याय का शुभारंभ हुआ।

यूनिवर्सिटी आॅफ बर्मिंघम के साथ धार्मिक अध्ययन पर साझा कार्यक्रम
यूनिवर्सिटी आॅफ बर्मिंघम के कुलपति देव संस्कृति विश्वविद्यालय के साथ धार्मिक अध्ययन पर एक कार्यक्रम आरंभ करना चाहते हैं। उनकी देसंविवि के प्रतिकुलपति जी के साथ बैठक हुई। इसमें सेण्टर आॅफ रीकाउंसिलेशन के निदेशक भी उपस्थित थे, जिन्होंने डॉ. चिन्मय जी के पक्ष का भरपूर समर्थन किया।

स्टेनमोर में गायत्री यज्ञ
प्रवास के आंरंभ में लंदन के उपनगर स्टेनमोर में गायत्री महायज्ञ का कार्यक्रम आयोजित हुआ। बड़ी संख्या में गायत्री परिजनों के अलावा स्थानीय पार्षद ने भी इसमें भाग लिया। १७ एकड़ का विशाल क्षेत्र होने के कारण परिजनों में परम वंदनीया माताजी के पदार्पण की रजत जयंती का कार्यक्रम १०८ कुण्डीय यज्ञ के साथ इसी स्थान पर आयोजित करने का उत्साह है।

विश्वविद्यालयों का वैश्विक मूल्यांकन करने वाली संस्था का सहयोग मिला
ग्लोबल रैंकिंग हैडक्वार्टर्स के प्रमुखश्री से हुई चर्चा बड़ी महत्त्वपूर्ण थी। प्रतिकुलपति जी ने उन्हें देव संस्कृति विश्वविद्यालय के अभिनव प्रयासों और सामाजिक प्रभावों की जानकारी दी। वे अत्यंत प्रभावित हुए। उन्होंने अपने बोर्ड में इनकी चर्चा करने और अपनी मूल्यांकन प्रणाली से देव संस्कृति विश्वविद्यालय को लाभान्वित करने का आश्वासन दिया। वे देसंविवि की गुणवत्ता को वैश्विक दृष्टिकोण के अनुरूप बढ़ाने में भी सहयोग करेंगे।


Write Your Comments Here:


img

मॉरिशस में गायत्री चेतना केन्द्र के लिए भूमिपूजन हुआ

लोंग माउण्टेन। मॉरिशसशांतिकुंज से मॉरिशस पहुँची श्री बालरूप शर्मा, श्री हेमलाल तत्त्वदर्शी एवं श्री नागमणि शर्मा की टोली ने लोंग माउंटेण्टन में गायत्री जयंती पर्व अपूर्व उल्लास के साथ मनाया। पर्व पूजन के साथ गायत्री- गंगा का महत्त्व बताने वाले.....

img

विश्व को १४ नोबल पुरस्कार विजेता देने वाले शिक्षा केन्द्र यूनिवर्सिटी आॅफ ज्यूरिच, स्विटज़रलैण्ड के साथ संबंध स्थापित हुए

भारतीय विद्या पर कार्यक्रम चलाने की है योजनादेव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति जी स्विटजरलैण्ड की राजधारी ज्यूरिच पहुँचे। वहाँ यूनिवर्सिटी आॅफ ज्यूरिच के अधिकारियों के साथ उनकी बैठक हुई, जिसमें भारतीय विद्या पर कार्यक्रम चलाने पर चर्चा हुई। यह वहाँ.....

img

कॉमनवैल्थ की प्रमुख बैरोनेस स्कॉटलैण्ड की आत्मीयता

स्वयं मिलने आयीं, गायत्री परिवार- देसंविवि की भागीदारी पर चर्चा हुईमाननीया पैट्रिसिया जेनेट, बैरोनेस स्कॉटलैण्ड, राष्ट्रमण्डल की महासचिव, जिन्हें महारानी के बाद द्वितीय दर्जे का सम्मान प्राप्त है, गायत्री परिवार के प्रतिनिधि से मिलने के लिए बहुत उत्सुक थीं। वे.....