Published on 2018-06-24

युगऋषिद्वय के पावन समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित कर माँगा आशीष

हरिद्वार, २४ जून।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह अपने निजी दौरे के दौरान गायत्री तीर्थ शांतिकुंज पहुँचे। यहाँ उन्होंने सर्वप्रथम युगऋषिद्वय के पावन समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित कर शुभाशीष मांगा तो वहीं गायत्री माता मंदिर में आरती कर देश के अमन चैन का आशीर्वाद लिया।

इस दौरान श्री अमित शाह अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या व संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी से भेंट परामर्श किया। वे करीब १५ मिनट तक गायत्री परिवार प्रमुखद्वय से चर्चा की। इस दौरान उनके साथ मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, केबीनेट मंत्री श्री मदन कौशिक, राष्ट्रीय महासचिव सरोज पाण्डे तथा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

इससे पूर्व श्री अमित शाह शांतिकुंज पहुँचने पर पीतवस्त्रधारी बहिनों ने वैदिक मंत्रों के साथ पुष्प वर्षा कर स्वागत किया।

इस अवसर पर जिलाधिकारी श्री दीपक रावत, एसडीएम मनीष कुमार सिंह, जिला सूचनाधिकारी सुश्री अर्चना के अलावा पत्रकार बन्धु आदि मौजूद रहे।


Write Your Comments Here:


img

श्री सत्यनारायण पण्ड्या पंचतत्त्व में विलीन

गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. पण्ड्या ने दी मुखाग्निहरिद्वार 20 फरवरी।                अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या के पिता पूर्व न्यायाधीश श्री सत्यनारायण पण्ड्या जी आज पंचतत्त्व में विलीन हो गये। खड़खड़ी स्थित शमशान घाट में उनके दोनों पुत्रों-.....

img

राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद् व देव संस्कृति विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में विवि के शिक्षाशास्त्र विभाग ने राष्ट्रीय उत्पादकता सप्ताह (राउस) मनाया

आर्थिक लाभ के साथ टिकाऊ अवधारणा को दें विशेष महत्व ः डॉ. चिन्मयएनसीटीई व विवि के संयुक्त तत्वावधान में राउस सप्ताह आयोजितबीएड के 75 विद्यार्थी गुणवत्तापरक शिक्षण पद्धति से हुए अवगतहरिद्वार 18 फरवरी।     राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद् व देव संस्कृति.....

img

शांतिकुंज में वसन्त उत्सव का प्रमुख समारोह आज हर्षोल्लास के साथ सम्पन्न हुआ

प्रकृति व परमेश्वर के मिलन का महापर्व वसंत ः डॉ. पण्ड्याउल्लास व उमंग का पर्व वसंत ः शैलदीदीआचार्यश्री के 94वें आध्यात्मिक जन्मदिवस पर देश को व्यसन मुक्त बनाने का लिया संकल्प19 विवाह सहित विभिन्न संस्कार बड़ी संख्या में सम्पन्न, सजाई.....