Published on 2018-06-28

देवास और उज्जैन जिलों में प्रभातफेरी, वाहन रैली और मानव शृंखलाएँ

उज्जैन जिले के खाचरौद, नागदा, तराना, बड़नगर ग्राम लेकोड़ा, आकासोदा में भी उज्जैन की तरह ही विविध कार्यक्रम आयोजित हुए।

देवास। मध्य प्रदेश
सामाजिक न्याय एवं निशक्तजन कल्याण विभाग तथा अखिल विश्व गायत्री परिवार के संयुक्त तत्वावधान में नशामुक्ति मानव शृंखला, जनजागृति वाहन रैली एवं संकल्प समारोह आयोजित हुआ।

गायत्री शक्तिपीठ से वाहन रैली का शुभारंभ महापौर श्री सुभाष शर्मा, म.प्र.पापुनि अध्यक्ष श्री रायसिंह सेंधव, कलेक्टर डॉ. श्रीकांत पांडे एवं समर्पित युग साधिका दुर्गा दीदी ने हरी झंडी दिखाकर किया। इसमें शामिल नशासुर की झांकी, गुटका, पाउच, बीड़ी, शराब, तम्बाकू के रूप में नशे की अर्थी निकालते छोटे-छोटे बच्चों ने हजारों लागों का ध्यानाकर्षित किया।

सयाजी द्वार पहुँचने पर एक लम्बी नशामुक्ति मानव शृंखला बनाई गई। तत्पश्चात् विधायक गायत्री राजे पवार की उपस्थिति में नशामुक्ति संकल्प समारोह आयोजित हुआ।  इस अवसर पर जिला चिकित्सालय के डॉ. कटारे ने तम्बाकू के दुष्प्रभाव बड़े प्रभावशाली ढंग से समझाये, नशामुक्त जीवन जीने के संकल्प दिलाये। कायक्रम में जनअभियान परिषद, नेहरू युवा केन्द्र, लायंस क्लब, एन.सीसी,  एन.एन.एस., स्काउट एण्ड गाइड एवं नगर की विभिन्न सामाजिक और धार्मिक संस्थाओं का प्रशंसनीय सहयोग मिला।

उज्जैन। मध्य प्रदेश
उज्जैन नगर कोठी पैलेस से तरणताल तक प्रभात फेरी निकाली गई। इसके समापन पर विशाल मानव शृंखला बनाते हुए समाज को नशामुक्ति का संदेश दिया गया। इस अवसर पर विशेष रूप से उपस्थित शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री प्रताप शास्त्री, श्री सुनील शर्मा श्री महाकालेश्वर श्रीवास्तव जी ने तम्बाकू का सेवन नहीं करने तथा ५ अन्य लोगों को इसके लिए संकल्पित कराने का संकल्प उपस्थित लोगों को कराया।

सांयकाल टावर चौराहे पर जनजागृति शिविर लगाया गया। इसमें आर.डी. गार्डी मेडिकल कॉलेज के मनोचिकित्सकों ने लोगों को तम्बाकू छोड़ने के सरल उपाय बताए और औषधियाँ भी प्रदान कीं। बहिनों ने व्यसनमुक्ति गीत प्रस्तुत किये। 'तम्बाकू के नुकसान लिखो' प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कार दिये गए।


Write Your Comments Here:


img

बेनीपट्टी मे बाल संस्कार शाला

बिहार के मधुबनी जिले के बेनीपट्टी मे बाल संस्कार शाला चलाया जा रहा हैl यहाँ पर शिक्षा के साथ संस्कार भी बच्चों को दिया जाता हैl बाल संस्कार शाला मे बच्चों को जीवन जीने की कला सिखाई जाती है.....